ये हैं सबसे खतरनाक नशे, देखिये कौन सी ड्रग कितनी जानलेवा

heroine

सबसे खतरनाक नशे के बारे में जानते हैं आप? दुनिया के युवाओं को तेज़ी से लत लगा रहा है नशा। नशा कितनी आसानी से किसी को तल का शिकार बना सकता है इस पर अंग्रेजी साइट द कनवर्सेशन में सेंट एंड्र्यूज यूनिवर्सिटी के साइकोलॉजी और न्यूरोसाइंस के प्रोफेसर एरिक बोमैन की रिपोर्ट चौंकाने वाली है। रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया के सबसे खतरनाक नशे ये हैं…

हेरोइन

heroin
Drug syringe and cooked heroin on spoon

जानवरों पर हेरोइन के परीक्षण से पता चला कि अफीम से बनने वाला नशा हेरोइन की खुराक मिलते ही दिमाग में डोपामाइन का स्तर 200 प्रतिशत तक पहुंच जाता है। सबसे ज्यादा लत वाला नशा है हेरोइन। सबसे ज्यादा खतरनाक भी है। यह जानलेवा साबित हो सकता है। इंसान के शरीर और दिमाग को नुकसान पहुंचाने के मामले में इसे सबसे खतरनाक नशा माना गया है।

अल्कोहल

alcohol

विशेषज्ञों से सवाल-जवाब के आधार पर शराब (अल्कोहल) को दुनिया का दूसरा सबसे लत वाला नशा माना गया। इसे लत वाले नशे की श्रेणी में 3 अंक में से 2.2 अंक दिये गये। जानवरों पर किए गए प्रयोगशाला परीक्षण में पता चला कि अल्कोहल दिमाग के डोपामाइन स्तर को 40 से लगबग360 प्रतिशत तक बढ़ा देती है। इसके अलावा जितना ज्यादा अल्कोहल लिया जाता है, डोपामाइन का स्तर भी उतना अधिक बढ़ता है। अल्कोहल का सेवन करने वाले तकरीबन 22 प्रतिशत, जीवन के किसी न किसी मोड़ पर इसके निर्भर हो जाते हैं।

कोकीन

कोकीन

दरअसल कोकीन लेने पर यह न्यूरॉन्स को डोपामाइन का असर बंद करने का संकेत देने से रोकती है। जानवरों पर किए प्रयोग में कोकीन ने डोपामाइन के सामान्य स्तर को असामान्य ढंग से तीन गुना से अधिक कर दिया। अनुमान लगाया जाता है कि दुनिया में 1 करोड़ 40 लाख से लेकर 2 करोड़ लोग कोकीन का लत का शिकार हैं। क्रैक कोकीन को विशेषज्ञों द्वारा तीसरा सबसे खतरनाक नशा माना गया है, जबकि पाउडर कोकीन को पांचवे स्थान पर रखा गया है। एक अनुमान के मुताबिक कोकीन को एक बार आजमाने वाले करीब 21 फीसदी लोग जीवन में इस पर निर्भर हो जाते हैं।

यह भी पढ़ें: http://बात-बात पर बच्चों को डांटना है गलत

बार्बीचुरेट्स (डौनर्स)

बार्बीचुरेट्स (डौनर्स)

नींद की गोली, ब्लू बुलेट्स, गोरिल्लाज, नेंबीज, बार्ब्स या पिंक लेडीज के नाम से भी प्रचलित बार्बीचुरेट्स एक ऐसे वर्ग के ड्रग हैं, जिनका इस्तेमाल शुरुआत में एंजाइटी से निपटने और नींद लाने के लिये किया जाता है। ये दिमाग केमिकल सिग्नलिंग को प्रभावित करते हैं, जिससे दिमाग के कई हिस्से काम करना बंद कर देते हैं। कम मात्रा में बार्बीचुरेट्स के सेवन से कल्पना के सबसे ऊंचे शिखर पर पहुंचने (यूफोरिया) का अहसास होता है, जबकि इसकी ज्यादा मात्रा सांस लेने में दिक्कत पैदा कर सकती है औक जानलेवा साबित हो सकती है। नट और उनकी विशेषज्ञ टीम ने बार्बीचुरेट्स को चौथा सवार्धिक नशीला पदार्थ बताया।

यह भी पढ़ें: http://‘उसे’ SPACE देना भी सीखें RELATIONSHIP में

निकोटिन

सबसे खतरनाक नशे

निकोटिन यानी तंबाकू को भी सबसे नशीला पदार्थ बताया गया है। लेकिन ऐसे कई कारण हैं जो ये साबित करते हैं कि निकोटिन बेहद ताकतवर नशीला पदार्थ है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के एक अनुमान से पता पता चलता है कि दुनिया भर में 100 करोड़ धूम्रपान करने वाले हैं और 2030 तक इसके कारण प्रतिवर्ष 80 लाख से ज्यादा लोग हर साल मौत का शिकार होंगे।