Sneezing etiquette क्या है? कोरोना वायरस से बचाएंगे ये तरीके

sneezing-thinkstock

Sneezing etiquette : Corona Virus के डर से लोग किसी भी छींकने या खांसने वालें को अछूत की तरह समझने लगे हैं। लेकिन यह भी ज़रूरी है कि स्नीजिंग एटीकेटस ( Sneezing etiquette ) ऐसे दौर में सख्ती से फॉलो करने की ज़रूरत है। यह भी सही नहीं है कि खुले में बेधड़क, बेखौफ कहीं भी खांसने या नाक सिकोड़ें। जहां यह देखने में असभ्य लगता है, वहीं बीमारियों का खुला न्योता है। आप भी ऐसा करते हैं तो संभल जाएं यह आपके साथ-साथ दूसरों को भी बीमार कर सकता है। क्योंकि खांसी-ज़ुकाम संक्रमित रोग है, जो दूसरों को भी इससे जकड़ लेगा। आज से ही अपनाते हैं खांसने, छींकने के कुछ जरूरी शिष्टाचार।

Sneezing etiquette -मुंह ढक लें

sneezing
  • घर-बाहर कहीं भी खांसते व छींकते समय मुंह और नाक ढक लें। यदि संभव हो तो डिस्पोसेबल टिशु का प्रयोग करें।
  • यदि खांसते व छींकते समय डिस्पोसेबल टिशु उपलब्ध नहीं हो तो कमीज़ के अंदर की तरफ के काॅलर का प्रयोग करें। यह हाथों को ठंड या फ्लू वायरस से दूषित होने से बचाता है।
  • डिस्पोसेबल टिशु का इस्तेमाल सिर्फ एक बार ही करें। इसे प्रयोग में लाने के बाद तुरंत डिस्पोसेबल टिशु का निपटान करें।

Sneezing etiquette – कीबोर्ड, डेस्क, पेन, मोबाइल साफ करें

  • यदि आप फ्लू के कारण बिस्तर पर चिपक गए हैं, तो पास में डिस्पोसेबल टिशु के लिए निपटान के लिए फ्लैक्स बैग रखें।
  • अचानक किसी सामने छींक या खांसी होती है तो रोके नहीं और तुरंत उस जगह को साफ डिस्पोजेबल कीटाणुनाशक पोंछें, ताकि सर्दी और फ्लू के कीटाणु यहां-वहां नहीं फैलें। बता दें कि कीबोर्ड, डेस्क, पेन, मोबाइल या लैंडलाइन पर रोज़ाना अच्छे से साफ करें। कारण फ्लू के कीटाणु यहां बहुत जल्दी चिपक जाते हैं। सर्दी-जु़काम के लिए डाॅक्टर से परामर्श के बाद दवा लें।
  • खांसने या छींकने के बाद हाथों को 15-20 सेकंड तक खुले पानी से साबुन से धोएं।

हाथ धोना है ज़रूरी

  • हर बार सर्दी-ज़ुकाम से पीड़ित व्यक्ति से संपर्क में आने के बाद हाथ साबुन से धोएं।
  • यदि साबुन और पानी उपलब्ध नहीं हैं, तो अल्कोहल-आधारित हाथ के सैनिटाइजिंग उत्पादों का उपयोग करें। ये उत्पाद दूषित हाथों से सर्दी और फ्लू के कीटाणुओं को दूर करने में भी प्रभावी हैं।
  • हाथों से अपना चेहरा छूने से बचें। क्योंकि चेहरे को छूने से सर्दी और फ्लू के वायरस नाक और आंखों की झिल्ली में प्रवेश करते हैं और संक्रमण का कारण बनते हैं।
  • दूसरों के साथ निकट संपर्क से बचें।

Sneezing etiquette – यहां वहां नहीं…

  • जब आपको सर्दी या फ्लू जैसी कोई बीमारी हो, जिससे आपको खांसी और छींकने की समस्या हो, तो काम, स्कूल और अन्य व्यस्त स्थानों से दूर रहें।
  • यदि आपको काम या अन्य व्यस्त स्थानों पर जाने की जरूरत है, तो दूसरों के साथ संपर्क से बचें। मसलन हाथ नहीं मिलाएं और कम से कम 1 मीटर दूर खड़े होकर बात करें।
  • कीटाणु कहीं भी छिपे हो सकते हैं और कहीं भी पनप सकते हैं। ऐसे में छोटी से छोटी गतिविधि का ध्यान रखें और सतर्क रहें। मसलन डोर बेल, दरवाज़े, कंधी, नल, वाॅशबेसिन आदि को हाथ लगाने के बाद हाथ कम से कम बीस सेकेंड तक खुले पानी से धोएं। आप स्वयं यहां-वहां नहीं थूकें। ऐसा बच्चों और आस-पास के लोगों को सिखाएं। करोना वायरस से बचने के यह बेहतर उपाय हैं।
दीप्ति अंगरीश