क्या है Covid Toolkit, किस पर उंगली उठा रही है BJP, जानें कौन हैं सौम्या वर्मा ?

toolkit

कोरोना काल में राजनीतिक लाभ के लिए क्या है Covid Toolkit तैयार करने का मामला? जो बीजेपी आरोप लगा रही है। आरोप है कि इसके जरिए देश और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की छवि धूमिल करने की कांग्रेस की चाल है। भाजपा ने बुधवार को दावा किया कि इस टूलकिट की रचनाकार कांग्रेस की कार्यकर्ता सौम्या वर्मा हैं।

संबित पात्रा ने तस्वीरें साझा की

भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने एक संवाददाता सम्मेलन में अपने दावे के पक्ष में सौम्या वर्मा के सोशल मीडिया अकाउंट्स का ब्योरा और पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी तथा पार्टी के शोध विभाग के प्रमुख राजीव गौड़ा के साथ उनकी कुछ तस्वीरें साझा की।

ट्वीट कर पूछा-आखिर कौन हैं सौम्या?

उन्होंने टूलकिट के स्रोत से संबंधित एक दस्तावेज भी जारी किया और ट्वीट कर कहा, ‘कांग्रेस ने कल पूछा था कि टूलकिट किसने तैयार किया है ? कृपया इस पेपर की सामग्री देखिए। इसे लिखा है सौम्या वर्मा ने। सबूत खुद बताते हैं कि यह सौम्या वर्मा कौन है। क्या सोनिया गांधी और राहुल गांधी जवाब देंगे?’

टूलकिट क्या है

‘टूलकिट’ एक प्रकार का दस्तावेज होता है, जिसमें अपने अभियान को आगे बढ़ाने के लिए बिंदुवार मुद्दे होते हैं। अभियान को धार देने के उद्देश्य से इन्हीं मुद्दों पर विरोधियों को घेरने के लिए प्रचार-प्रसार किया जाता है। हाल ही में किसान आंदोलन के दौरान भी एक टूलकिट (Covid Toolkit) सामने आया था, जिसकी काफी चर्चा भी हुई थी।

भाजपा की ‘जालसाजी’ सफल नहीं होगी : कांग्रेस

कांग्रेस ने कथित ‘टूलकिट’ को लेकर बुधवार को भाजपा पर पलटवार करते हुए कहा कि भाजपा के ‘फर्जी प्रबंधकों’ की यह ‘जालसाजी’ सफल नहीं होगी। कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने यह दावा भी किया कि ‘फर्जी टूलकिट तैयार करने की जालसाजी’ के लिए सत्तारूढ़ पार्टी के अध्यक्ष जेपी नड्डा, संगठन महामंत्री बीएल संतोष, केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी तथा प्रवक्ता संबित पात्रा को जेल जाना पड़ सकता है।

मुद्दे से भटकाना चाहती है बीजेपी

उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ‘सत्तापक्ष के लोग सिर्फ ध्यान भटकाना चाहते हैं। जालसाजी और इसका उपयोग एजेंडा सेट करने के लिए किया गया है। हकीकत यह है कि इस मामले में संबित पात्रा को जेल जाना पड़ सकता है। जेपी नड्डा जी, बीएल संतोष जी और स्मृति ईरानी जी को भी जेल जाना पड़ सकता है। यह जालसाजी सफल नहीं होगी।’

आंकड़े छिपा रही है सरकार- कांग्रेस

उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि इस वक्त का मुद्दा ऑक्सीजन, वेंटिलेटर, दवाओं की कमी है। मुद्दा यह भी होना चाहिए कि सरकार विफल रही है, मौत के आंकड़ों को छिपाया गया है।