सपा से अलग हुए शिवपाल का दावा, ‘केन्द्र में हम बनेंगे किंगमेकर’

Lucknow: Samajwadi Party supremo Mulayam Singh Yadav and party UP President Shivpal Yadav at a press conference at the party office in Lucknow on Friday. PTI Photo by Nand Kumar (STORY DES 12, 15)(PTI10_14_2016_000080A)

उत्तर प्रदेश (Utter Pradesh) में समाजवादी पार्टी ( SP) और यादव कुनबे में कलह का अंजाम सब देख चुके हैं। वहीं दूसरी ओर चाचा-भतीजे (Akhilesh-Shivpal) की लड़ाई में भी कोई सुलह की संभावना नहीं दिख रही है। चाचा शिवपाल यादव अभी तक नाराज़ चल रहे हैं और अब वे खुद को प्रदेश का किंगमेकर ( kingmaker) बताने लगे हैं। प्रगतिशील समाजवादी पार्टी-लोहिया यानी प्रसपा बनाने वाले शिवपाल यादव ने गुरूवार को कहा कि सूबे में हम किंगमेकर बनेंगे और सपा ( SP) में वापसी करने का तो सवाल ही नहीं उठता है।


शिवपाल यादव ( shivpal yadav) ने दावा किया है कि उनकी पार्टी अगले लोकसभा चुनाव के बाद उत्तर प्रदेश नहीं बल्कि केन्द्र में किंगमेकर साबित होगी। उन्होंने दावा किया कि केन्द्र में अगली सरकार प्रसपा (pragtisheel samajwadi party) की मदद के बिना नहीं बन सकेगी। उनका दावा है कि हमारी पार्टी पिछले तीन महीनों के अंदर एक बड़ी ताकत बनकर उभरी है। प्रदेश के सभी 75 जिलों में प्रसपा का संगठन बनकर तैयार है और जनता इस पार्टी को अब एक बड़ी राजनीतिक शक्ति के तौर पर देखने लगी है।

प्रसपा प्रमुख का कहना है कि अगर किसी पार्टी से गठबंधन नहीं हुआ तो उनकी पार्टी प्रदेश की सभी 80 लोकसभा सीटों पर अकेले चुनाव लड़ेगी । इस दौरान उन्होंने बसपा के साथ हाथ मिलाने के कयासों पर भी पूरी तरह विराम लगा दिया । शिवपाल ने सपा-बसपा के गठबंधन पर भी सवाल उठाए । शिवपाल ने कहा, ‘क्या दोनों पार्टिर्यों की विचारधारा मेल खाती है ? क्या बसपा पर विश्वास किया जा सकता है ? कोई भरोसा नहीं है कि वह कब गठबंधन में शामिल हो और कब अलग हो जाए ‘।
पत्रकारों ने शिवपाल से सपा नेता आजम खां के बयान के बारे में पूछा था जिसमें आज़म ने पूरे यादव परिवार के एक साथ आने की बात कही थी ।

‘प्रगतिशील समाजवादी पार्टी का सपा में विलय, या वापसी का सवाल ही नहीं उठता । हालांकि मैं भाजपा जैसी साम्प्रदायिक शक्ति को हटाने के लिये समान विचारधारा वाली पार्टियों से गठबंधन करने को तैयार हूं । मगर वह भी तब होगा, जब हमें सम्मानजनक संख्या में सीटें मिलेंगी।’-Shivpal Yadav


मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) का आशीर्वाद हासिल होने या ना होने के सवाल पर शिवपाल का कहना था ‘अब यह कोई सवाल नहीं रह गया है। मैंने कदम आगे बढ़ा दिये हैं। अब सवाल प्रदेश और देश का है। साथ ही इस बात का भी सवाल है कि हम साम्प्रदायिक शक्तियों ( Secular powers) को कैसे रोकते हैं। ‘ हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि वह मुलायम से प्रसपा के टिकट पर लोकसभा चुनाव लड़ने का आग्रह करेंगे। अगर वह इस प्रस्ताव को स्वीकार नहीं करते तो उनकी पार्टी चुनाव में उनका समर्थन करेगी, चाहे वह जहां से भी मैदान में उतरें।

कांग्रेस से गठबंधन की सम्भावना के सवाल पर शिवपाल ने कहा कि अभी उनकी कांग्रेस के किसी भी नेता से बात नहीं हुई है। शिवपाल ने कहा कि लोकसभा चुनाव में उनकी पार्टी ‘किसान, जवान और मुसलमान‘ का मुद्दा उठाएगी और इसी मुद्दे पर चुनाव लड़ेगी। उन्होंने कहा कि अगर सपा, बसपा और कांग्रेस भाजपा को रोकना चाहती हैं और प्रसपा को सम्मानजनक संख्या में सीटें देती हैं तो हम ज़रूर  गठबंधन में शामिल होंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here