हिन्दू सवर्ण हैं एनडीए के सबसे बड़े समर्थक, ओबीसी, एसटी का भी चुनाव में खूब मिला साथ

NDA BJP

हिन्दू सवर्णों ने दिये एनडीए को सबसे ज्यादा वोट, ओबीसी, एसटी ने भी खूब दिया साथ.इस बार बीजेपी लोकसभा चुनाव में अकेले दम पर बहुमत के आंकड़े को पार कर गई। एनडीए गठबंधन कुल 353 सीटें जीतने में सफल रहा है। भाजपा ने इस बार के चुनाव में अपने दम पर 300 के आंकड़े को हासिल किया है। इस बीच आईएएनएस-सी वोटर ने मतदान पैटर्न का अध्ययन करने के बाद एक आकंड़ा जारी किया है जिसमें एनडीए के वोटरों का विश्लेषण है। भाजपा ने अकेले दम पर 303 सीटें हासिल की हैं।

कांग्रेस की बात करें तो पार्टी ने 52 सीटें जीती हैं। यूपीए के हिस्से में कांग्रेस को मिलाकर 85 सीटें मिली हैं। वहीं इस चुनाव में सपा+बसपा के गठबंधन के खाते में 15 सीटें गई हैं। जबकि अन्य के खाते में 89 सीटें गई हैं। वहीं 543 लोकसभा में से 542 के चुनाव परिणाम घोषित किए गए हैं।

amethi

तमिलनाडु के वेल्लौर लोकसभा चुनाव को रद्द कर दिया था। वेल्लौर में बड़े पैमाने पर कैश बरामद होने के बाद चुनाव आयोग ने वहां का चुनाव रद्द करने की घोषणा की थी।

क्या कहता है सर्वे

हिन्दू सवर्ण: एनडीए को 47.1 प्रतिशत ओबीसी ने, 43.2 प्रतिशत एसटी ने और 39.5 प्रतिशत एससी ने वोट दिया। इसकी तुलना में संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) को सबसे ज्यादा (30.1 प्रतिशत) एसटी वोट मिले। इसके बाद उसे एससी (29.8 प्रतिशत) और ओबीसी (25.4 प्रतिशत) वोट मिले।

ये है धर्म आधारित विश्लेषण

voters

धर्म-आधारित विश्लेषण से पता चला कि एनडीए के सबसे बड़े समर्थक सवर्ण हिंदू हैं जिसके 51.6 प्रतिशत समुदाय ने नरेंद्र मोदी की अगुआई वाले गठबंधन को वोट दिया।

modi magic 2

आंकड़ों की माने तो यूपीए को 40.8 प्रतिशत मुस्लिम वोट मिले। आंकड़े बताते हैं कि राजग को 45.7 प्रतिशत ईसाइयों और 38.2 प्रतिशत सिखों ने वोट दिए। यूपीए को 28 प्रतिशत सिख और 27.8 प्रतिशत ईसाई वोट मिले। मुस्लिमों को छोड़कर, अन्य सभी धार्मिक समुदायों ने राष्ट्रीय रुझानों के अनुसार राजग को वोट दिया।