Vaibhav Arora’s Himachal Connection-कौन हैं आईपीएल का यह सितारा, जिस पर केकेआर ने लगाया दांव

vaibhav arora
vaibhav arora

Vaibhav Arora’s Himachal Connection-इंडियन प्रीमियर लीग (IPL-14) में इस बार एक ऐसा खिलाड़ी नजर आएगा, जिसने अपनी उड़ान अंबाला से शुरू की थी और चंडीगढ़ व हिमाचल प्रदेश होते हुए वह कोलकाता तक पहुंची। बात हो रही है क्रिकेटर वैभव अरोड़ा की, जिन्हें कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) ने 20 लाख रुपए में खरीदा है। ऑलराउंडर वैभव का बेस प्राइस 20 लाख रुपए ही था और इसी कीमत पर उन्हें खरीदा गया है।
दाएं हाथ के गेंदबाज वैभव अभी तक प्रथम श्रेणी के 8 मैच खेल चुके हैं, जिसमें उन्होंने 29 विकेट ली है। वैभव ने 9 दिसंबर 2019 को प्रथम श्रेणी क्रिकेट में डेब्यू किया था। वैभव गोपाल अरोड़ा ने सैयद मुश्ताक अली क्रिकेट टूर्नामेंट से T20 में डेब्यू किया था। इस टूर्नामेंट में वैभव ने 6 मैचों में 10 विकेट झटके थे। 10 जनवरी, 2021 को वैभव ने हिमाचल प्रदेश के लिए छत्तीसगढ़ के खिलाफ पहला T20 मैच खेला और अपने इस पहले ही मैच में 5 विकेट झटके थे।

वैभव के आईपीएल तक का सफर काफी संघर्षों से भरा रहा है। पंजाब के अम्बाला से शुरू होकर चंडीगढ़ के रास्ते पहले हिमाचल पहुंचा और वहां से सीधे उन्होंने आईपीएल की उड़ान भरी। दरअसल अम्बाला में वैभव का घर है। जहां उनके पिता दूध की डेरी चलाते हैं। परिवार में माँ – पिता और एक छोटा भाई व दादी को मिलाकर कई लोग एक साथ रहते हैं। जहां से निकल कर वैभव के लिए क्रिकेट खेलना किसी पहाड़ चढ़ने से कम नहीं था।

स्केटिंग छोड़ क्रिकेट का थामा दामन

वैभव ने अपने सफर की शुरुआत के बारे में कहा, ‘क्रिकेट से पहले मैं स्केटिंग करता था। जिसमें मैंने राष्ट्रीय स्तर पर कांस्य पदक भी जीता मगर ज्यादा पहचान और मदद ना मिलने के कारण मैंने साल 2011 के दौरान अम्बाला की गलियों में टेनिस बॉल से क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया। जिसके बाद प्रोफेशनल क्रिकेट सीखने के लिए मैं चंडीगढ़ की क्रिकेट अकादमी गया। जहां मेरे कोच रवि वर्मा जी ने मुझे क्रिकेट सिखाना शुरू किया। वहाँ पर क्रिकेट सीखते – सीखते पंजाब से खेलने को ट्राई करता रहा मगर मौके ख़ास नहीं मिल रहे थे और घर में आर्थिक तंगियाँ आना शुरू हो गई थी। जिसके चलते एक समय ऐसा लग रहा था कि मुझे क्रिकेट छोड़ना पड़ेगा।‘

इस तरह 7 साल क्रिकेट खेलने के बाद वैभव को जब पंजाब से मौका नहीं मिल पा रहा था और घर में आर्थिक तंगियों से परेशान होकर उन्होंने नौकरी करने की भी सोची थी। तभी उनके कोच रवि वर्मा ने उन्हें फ्री में हॉस्टल दिया और ट्रेनिंग भी कराई। जिससे उनके जीवन में बदलाव आया और वो पडोसी राज्य हिमाचल में जाकर डिस्ट्रिक्ट ट्रायल देने चले गए।

Vaibhav Arora’s Himachal Connection

इसी देवभूमि में जाकर वैभव का उद्धार हुआ और उन्होंने हिमांचल के लिए अपनी गेंदों से कहर बरपाना शुरू कर दिया। वैभव ने कहा, ‘पंजाब में इतना अधिक मौका ना मिलने के कारण मैंने हिमांचल का रुख किया। जहां पर मुझे काफी सपोर्ट मिला। जिसके दमपर मैं आज यहाँ तक आ पहुंचा हूँ। इसलिए मेरा करियर बनाने में हिमांचल क्रिकेट का काफी योगदान रहा है।‘

डेब्यू मैच में पुजारा का उखाड़ा मिडल स्टंप

हिमांचल में जैसे ही वैभव को साल 2019 रणजी ट्रॉफी में डेब्यू करने का मौका मिला उन्होंने इस स्तर पर सभी को चौंका डाला। अपनी सालों की कड़ी लगन और मेहनत को वैभव ने बेकार नहीं जाने दिया। जिसके चलते डेब्यू मैच में टीम इंडिया की दूसरी ‘द वाल’ कहे जाने वाले चेतेश्वर पुजारा का मिडिल स्टंप हवा में उड़ाकर अपनी घातक गेंदबाजी का इतिहास लिखना शुरू कर डाला। इस मैच में उन्होंने कुल 9 विकेट लिए।

Vaibhav Arora’s Himachal Connection

इस तरह डेब्यू को यादगार बताते हुए वैभव ने कहा, ‘साल 2019 में अंडर -23 टूर्नामेंट के दौरान मैं पूरे भारत में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाला गेंदबाज बना। जिसके चलते मुझे हिमांचल की रणजी टीम में जगह मिली। जबकि उसी साल 2019 में ही रणजी ट्राफी में पहला मैच सौराष्ट्र के खिलाफ था। जिसमें मैंने 9 विकेट हासिल किए थे। जबकि मेरे करियर का दूसरा विकेट सबसे ख़ास था। जिसमें मैंने भारतीय टीम के चेतेश्वर पुजारा को इनस्विंग डालकर उनका मिडिल स्टंप उखाड़ फेंका था। इस तरह पुजारा का विकेट डेब्यू मैच में मेरे लिए काफी यादगार रहेगा। जिसे मैं शायद ही भुला पाऊं। मैच के बाद पुजारा भाई ने तारीफ करते हुए मुझे इसी तरह गेंदबाजी करने की सलाह भी दी थी।‘

आईपीएल 2020 में किंग्स इलेवन पंजाब के बने नेट गेंदबाज

साल 2019 में रणजी ट्राफी के दौरान शानदार प्रदर्शन करने वाले वैभव को किंग्स इलेवन पंजाब की टीम ने आईपीएल के पिछले 2020 सीजन में उन्हें बतौर नेट गेंदबाज अपनी टीम में शामिल किया था। जहां पर भी उनकी गेंदबाजी का जोश जारी रहा। उन्होंने पंजाब के कप्तान राहुल तक को नेट्स में क्लीन बोल्ड किया जबकि टीम इंडिया के तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी से भी काफी कुछ सीखा। जिसके बारे में वैभव ने कहा, ‘आईपीएल के पिछले 2020 सीजन में मैंने शमी भाई से काफी कुछ सीखा। उन्होंने मुझे मैच परिस्थिति के अनुसार गेंदबाजी करने के बारे में ख़ास टिप्स दिए। जबकि मैंने नेट्स में पंजाब के कप्तान केएल राहुल को बोल्ड करने के साथ कई बल्लेबाजों का विकेट भी निकाला। इससे मेरा आत्मविश्वास काफी बढ़ा हुआ है।‘

गेंदबाजी में क्या है ताकत और बुमराह क्यों है आईडल

घरेलू क्रिकेट और आईपीएल के नेट गेंदबाज के तौरपर दाए हाथ के इस तेज गेंदबाज से जब उनकी ताकत और गेंदबाजी में क्या उनका प्लान रहता है। जबकि कौन उनका आईडल है। इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘मेरी स्पीड अभी ज्यादा नापी तो नहीं है फिर भी 130-140 km/ph की रफ़्तार के बीच रहती है और मेरी ताकत इनस्विंग गेंद है। जिस पर मैंने पुजारा भैया को भी बोल्ड किया था। इसे ही मैं आगे ले जाना चाहूँगा। जबकि शमी भाई से आउट स्विंग के भी टिप्स सीखे थे, उस पर भी काम कर रहा हूँ।‘

वहीं टीम इंडिया के तेज गेंदबाज और यॉर्कर किंग के नाम मशहूर बूम – बूम  जसप्रीत बुमराह के वैभव कायल हैं। आईपीएल में उनसे मिलने को लेकर वो काफी उत्साहित भी है। जिसके बारे में ख़ास वजह बताते हए वैभव ने कहा, ‘मुझे टी20 क्रिकेट हो या कोई भी क्रिकेट फॉर्मेट यॉर्कर डालना काफी पसंद है। जिस पर मैं काफी मेहनत भी कर रहा हूँ। यही कारण है कि बुमराह मेरे फेवरेट हैं। अभी तक उनसे मुलाकात नहीं हुई है। अगर मैं आईपीएल में उनसे मिलता हूँ तो जरूर यॉर्कर गेंदों को लेकर उनसे कुछ सीखना चाहूँगा।‘

KKR में चयन के तुंरत बाद ‘लिस्ट ए’ डेब्यू करते हुए ली ‘हैट्रिक’

आईपीएल 2021 की नीलामी में 20 लाख के बेस प्राइस में बिकने के बाद जैसे ही वैभव ने जारी विजय हजारे ट्राफी (लिस्ट ए यानी वनडे क्रिकेट) में हिमाचल के लिए कदम रखा। उन्होंने एक इतिहास रच डाला। वैभव ने हाल ही में महाराष्ट्र के खिलाफ कुल 7 ओवर गेंदबाजी करते हुए कुल 45 रन खर्च किए, लेकिन 4 विकेट भी उन्होंने चटकाए। जिसमें पारी के आखिरी ओवर की अंतिम तीन गेंदों पर तीन बल्लेबाजों को पवेलियन भेज हैट्रिक ले डाली और हिमाचल के लिए ऐसा करने वाले पहले गेंदबाज बन गए।

जिसके बारे में वैभव ने कहा, ‘रणजी के बाद लिस्ट ए का डेब्यू मैच भी काफी ख़ास रहा और मैंने हैट्रिक ली। आप इसे नीलामी में बिकने का जवाब कह सकते हो। मैं केकेआर के लिए खेलने को लेकर काफी उत्साहित हूँ और उनकी प्लेइंग इलेवन में भी जगह बनाना चाहता हूँ। जिसके चलते मैं घरेलू क्रिकेट में काफी जी जान लगा रहा हूँ। इसी तरह अगर प्रदर्शन करता रहा तो मुझे उम्मीद है 2021 आईपीएल में केकेआर के लिए काफी कुछ कर पाऊंगा।‘