अमेरिकी खु़फ़िया रिपोर्ट का दावा-महामारी से पहले बीमार पड़ा था वुहान लैब का स्टाफ, तो वायरस यहीं से फैला ?

wuhan
file

कोविड महामारी को लेकर एक अमेरिकी ख़ुफ़िया रिपोर्ट (American intelligence report) में दावा किया गया है कि दुनिया में कोरोना महामारी फैलने से करीब एक महीने पहले वुहान लैब के तीन शोधकर्ता बीमार पड़ गए थे.अमेरिकी अख़बार वॉल स्ट्रीट जर्नल की ख़बर के मुताबिक़ वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ़ वायरॉलजी (Wuhan Institute of Virology) के तीन शोधकर्ता नवंबर 2019 में बीमार पड़े थे. उन्होंने अस्पताल की मदद मांगी थी.

अमेरिकी खु़फ़िया रिपोर्ट में कई जानकारियां

इस ख़ुफ़िया रिपोर्ट में वुहान लैब के बीमार शोधकर्ताओं की संख्या, उनके बीमार पड़ने के समय और अस्पताल जाने से जुड़ी विस्तृत जानकारियां हैं.उम्मीद जताई जा रही है कि ख़ुफ़िया रिपोर्ट की जानकारियां उस दावे की जांच करने पर बल देंगी जिनमें वुहान लैब से कोरोना वायरस फैलने की आशंका जताई गई है.

डब्ल्यूएचओ करेगा जांच

wuhan-laboratory-2
image credit-Google

यह रिपोर्ट विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) की उस बैठक से एक दिन पहले आई जिसमें डब्ल्यूएचओ के कोरोना वायरस के उद्गम (Origin of virus) के बारे में अगले चरण की जांच पर चर्चा का अनुमान है.

यह भी पढ़ें: चीन की Virologist का दावा, वुहान की सरकारी लैब में ही तैयार हुआ Coronavirus

अमेरिकी खु़फ़िया रिपोर्ट- ‘जांच को लेकर गंभीर है बाइडन प्रशासन’

अमेरिकी सिक्योरिटी काउंसिल की प्रवक्ता ने वॉल स्ट्रीट जर्नल की इस ख़बर पर कोई टिप्पणी नहीं की लेकिन उन्होंने कहा कि बाइडन प्रशासन ‘कोरोना वायरस के उद्गम की जाँच को लेकर गंभीर है.’इससे पहले विश्व स्वास्थ्य संगठन की एक टीम महामारी से जुड़े तथ्यों का पता लगाने के लिए वुहान गई थी.

ट्रंप ने भी कहा था चीनी वायरस

हालाँकि फिर डब्ल्यूएचओ ने कहा था कि यह साबित करने के लिए पर्याप्त तथ्य नहीं है कि कोरोना वायरस वुहान की लैब से दुनिया भर में फैला.पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप कोरोना वायरस को ‘चीनी वायरस’ और ‘वुहान वायरस’ कहा करते थे और चीन ने इस पर कड़ी आपत्ति ज़ाहिर की थी.

यह भी पढ़ें:तो क्या एक इंटर्न की गलती से वुहान में लीक हो गया था कोरोना वायरस ?

अमेरिकी खु़फ़िया रिपोर्ट के दावे में दम !

चीन पर जाँच में विश्व स्वास्थ्य संगठन की टीम को पूरा सहयोग न देने और वुहान लैब से जुड़ी जानकारियाँ छिपाने के आरोप भी लगते रहे हैं. बहरहाल दिलचस्प यह देखना होगा कि अब इस रिपोर्ट के आधार पर अमेरिका का अगला रुख़ क्या है।

Credit And Courtesy-BBC hindi Report-By -Niroshaa Singh