Home न्यूज प्रधानमंत्री मोदी से मिले उद्धव ठाकरे- मीडिया ने पूछा तो बोले- कोई...

प्रधानमंत्री मोदी से मिले उद्धव ठाकरे- मीडिया ने पूछा तो बोले- कोई नवाज़ शरीफ से मिलने तो नहीं गया था

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मंगलवार को प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात की और मराठा आरक्षण, मेट्रो के ‘कार शेड’, जीएसटी मुआवजे से जुड़े मुद्दों पर बातचीत की। महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री एवं राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के नेता अजित पवार और कांग्रेस नेता अशोक चव्हाण भी ठाकरे के साथ मौजूद थे। ठाकरे ने पत्रकारों से कहा, ‘मराठा आरक्षण, मेट्रो के ‘कार शेड’, जीएसटी मुआवजे से जुड़े मुद्दों पर प्रधानमंत्री से बातचीत की।’

मुलाकात के बाद उद्धव को मीडिया ने घेरा और सबब पूछा तो उन्होंने यह जवाब दिया…

प्रधानमंत्री मोदी से मिलकर बोले ठाकरे…

उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री ने इन मुद्दों पर गौर करने का आश्वासन दिया है। पवार ने बताया कि बैठक डेढ़ घंटे तक चली। उन्होंने कहा कि जीएसटी मुआवजे से जुड़े मुद्दे पर भी बातचीत हुई। पवार महाराष्ट्र के वित्त मंत्री भी हैं। नवंबर, 2019 में राज्य के मुख्यमंत्री के रूप में कार्यभार संभालने के बाद ठाकरे की राष्ट्रीय राजधानी की यह दूसरी यात्रा है।

मेट्रो ‘कार शेड’ को लेकर भी हुई बात

राज्य की शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस सरकार मेट्रो ‘कार शेड’ को कंजुर स्थानांतरित करना चाहती है। राज्य और केंद्र दोनों उसे अपनी जमीन बताते हैं। यह मामला इस समय अदालत के समक्ष लंबित है। देवेंद्र फडणवीस की अगुवाई वाली राज्य की पिछली भाजपा सरकार ने आरे में मेट्रो कार शेड बनाने का फैसला किया था, लेकिन पर्यावरणविदों ने इस कदम का विरोध किया था।

यह भी पढ़ें: शिवसेना ने मोदी, शाह से महाराष्ट्र के राज्यपाल को वापस बुलाने को कहा

प्रधानमंत्री मोदी से मिलकर मीडिया से की बात

हालांकि महा विकास अघाड़ी सरकार ने कार शेड को कंजुर में स्थानांतरित करने के निर्णय की घोषणा की थी। पवार ने कहा कि प्रतिनिधिमंडल ने मोदी से महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को राज्य विधान परिषद में 12 सदस्यों के नामांकन को मंजूरी देने का निर्देश देने के लिए भी कहा। कांग्रेस नेता चव्हाण ने पत्रकारों से कहा कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा नौकरियों और शैक्षणिक संस्थानों में मराठों के लिए आरक्षण समाप्त करने के बाद, अब इस पर निर्णय लेने का अधिकार केंद्र के पास है। उन्होंने कहा कि केंद्र को इस संबंध में कदम उठाने चाहिए।

Exit mobile version