इन दो Blood Group वाले लोगों के लिये घातक साबित हो रहा कोरोना, CSIR की रिसर्च में खुलासे

blood group

दो Blood Group (AB and B) वाले लोग किस तरह से कोविड की चपेट में ज्याादा आ रहे हैं इस पर सीएसआईआर यानी Council of Scientific and Industrial Research ने एक नयी रिसर्च की है। इस शोध के मुताबिक 2 ब्लड ग्रुप के लोग इस महामारी के प्रति वेहद संवेदनशील हैं। रिसर्च 10 हजार लोगों पर अध्ययन करने के बाद तैयार की गई है।

AB and B दो Blood Group वाले को अधिक खतरा


हाल ही में वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद (Council of Scientific and Industrial Research-CSIR) ने एक रिसर्च पेपर प्रकाशित किया है। इस रिसर्च में कोरोना के बारे में बताया गया है कि AB और B ब्लड ग्रुप (AB and B ‍Blood Group) वाले लोग अन्य ग्रुप वाले लोगों की अपेक्षा कोविड-19 महामारी के प्रति ज्यादा संवेदनशील हैं। रिसर्च पेपर के मुताबिक ‘O’ ब्लड ग्रुप वाले लोग कोरोना वायरस के प्रति सबसे कम संवेदनशील हैं। शोध में यह भी बताया गया है कि O Blood Group के लोगों में कोरोना के लक्षण दिखाई नहीं देते या उन्हें बहुत ही कम कोरोना वायरस होता है।

यह भी पढ़ें: Plasma क्या है? प्लाज़मा की ए, बी, सी जानने के लिए पढ़ें यह लेख

10000 लोगों पर किया शोध

corona
file

सीएसआईआर ने यह शोध पेपर 10 हजार लोगों पर अध्ययन करने के बाद तैयार किया है। इस शोध के दौरान 140 डॉक्टरों के समूह ने पाया कि AB और B ब्लड ग्रुप वाले लोग कोरोना के संपर्क में ज्यादा आए जबकि o ब्लड ग्रुप के लोग सबसे कम संक्रमित मिले। रिसर्च पेपर पर बात करते हुए आगरा में पैथोलॉजिस्ट डॉ. अशोक शर्मा ने कहा कि सब कुछ व्यक्ति के आंतरिक ढांचे पर निर्भर करता है। उन्होंने कहा कि थैलेसीमिया से पीड़ित लोग मलेरिया से शायद ही प्रभावित हो। वैसे ही यह भी देखा जाता है कि परिवार के सभी लोग कोरोना से संक्रमित हुए लेकिन एक व्यक्ति नहीं हुआ। यह सब Genetic framework के ही कारण होता है।

यह भी पढ़ें: Top 5 Rules- कोरोना पॉज़िटिव हैं तो न सोचें नेगेटिव, रूटीन में रखें ये आदतें…

AB and B ब्लड ग्रुप के अलावा मांसाहारी लोगों को ज्यादा खतरा

सीएसआईआर के रिसर्च पेपर में यह भी पता चला है कि मांसाहारी व्यक्तियों में भी कोरोना संक्रमण का खतरा ज्यादा होता है । इसका मुख्य कारण यह है कि शाकाहारी भोजन में ज्यादा फाइबर होता है। उच्च फाइवर युक्त भोजन (High Fever food) सूजनरोधी (Anti-inflammatory) होता है जोकि संक्रमण के बाद की जटिलताओं को रोक सकता है और संक्रमण को स्वयं प्रकट होने से भी रोक सकता है।

O blood type में होती है मज़बूत इम्यूनिटी

डॉ. अशोक शर्मा ने कहा कि इस बात की भी संभावना है कि o ब्लड ग्रुप के लोगों की प्रतिरोधक क्षमता AB और B ब्लड ग्रुप के लोगों की तुलना में ज्यादा कोविड के प्रति ज्यााद अच्छी हो। हालांकि इस बारे में अभी और अधिक शोध की आवश्यकता है। हालांकि उन्होंने कहा कि इसका मतलब ये कतई नहीं कि O ब्लड ग्रुप वाले लोग कोविड प्रोटोकॉल का पालन करना छोड़ दें। ऐसा भी नहीं हुआ है कि O ब्लड ग्रुप के लोगों को कोरोना नहीं हुआ।

एजेंसी