इस साल आएंगी ये किताबें, पढ़ने का शौक है तो ज़रूर खरीदें

दिल्ली के प्रगति मैदान में लगा बुक फेयर खत्म हो गया है। ऐसे में अगर आप में से कुछ लोग ज़रूरी किताबें लेने से चूक गये हैं तो हम आपको बताने जा रहे हैं इन चुनिंदा किताबों के बारे में, जिन्हें पढ़ना आपके लिये एक शानदार एक्सपीरियंस हो सकता है।  किताब के शौकीनों के लिये इस साल कई दिलचस्प किताबें कतार में हैं, जिनमें मिताली राज और यशवंत सिन्हा के संस्मरण, कुलदीप नैयर की अंतिम रचना तथा अरुंधति रॉय, अमिताव घोष, सचिन पायलट एवं रघुराम राजन, मनमोहन सिंह की ये किताबें शामिल हैं।

सिन्हा की किताब ‘रिलेंटलेस’ ( relentless) को ब्लूम्सबेरी प्रकाशित करेगी, पेंग्विन रैंडम हाउस मिताली राज के संस्मरण ‘अनगार्डेड’ ( unguarded) प्रकाशित करेगी।

कुलदीप नैयर की आखिरी रचना ‘ऑन लीडर्स एंड आइकंस : फ्रॉम जिन्ना टू मोदी’ ( on leaders and icons from jinnah to modi) को स्पीकिंग टाइगर प्रकाशित करेगी। नैयर का निधन 23 अगस्त 2018 को हुआ था और अपने निधन से कुछ सप्ताह पहले उन्होंने इस रचना पर काम खत्म किया था।


मनमोहन सिंह की ‘चेंजिंग इंडिया’ (changing india) और इंदिरा जयसिंह, आशीष नंदी एवं उपेंद्र सिंह तथा अन्य की किताबें प्रकाशित करेगी।

अन्य आत्मकथाओं में प्रशांत भूषण ( prashant bhushan) की ‘माई लाइफ इन मूवमेंट्स’ (my life in movements)  और लीजा रे ( lisa rey) की ‘क्लोज टू द बोन’ (close to the bone) के नाम हैं।

‘रूटेड’ (rooted) शीर्षक से सचिन पायलट ( sachin pilot) की किताब भी इस कतार में शामिल है, जिसकी सहलेखक प्रतिष्ठा सिंह ( pratishtha singh)  हैं। फिल्में, संगीत और मनोरंजन एवं लाइफस्टाइल उद्योग भी इसमें शामिल होंगे।

input-pti

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here