मृत महिला के गर्भाशय से पैदा हुआ बच्चा

दुनिया में ये पहला मामला है जब किसी मृत महिला का गर्भाशय  ज़िंदा महिला में प्रत्योरोपित किया गया हो. (Transplanted Uterus From Dead Donor). इस गर्भाशय को लेने वाली महिला ने एक स्वस्थ बच्ची को भी जन्म दिया है.

ब्राज़ील ( brazil) के साओ पॉलो शहर में साल 2016 में मृत महिला के शरीर से गर्भाशय निकालकर मां बनने वाली महिला के शरीर में प्रत्यारोपित किया गया था. दस घंटे तक चले प्रत्यारोपण के बाद इस महिला का फ़र्टिलिटी ट्रीटमेंट किया गया.

इससे पहले दुनिया भर में मृत महिलाओं के गर्भाशयों को प्रत्यारोपित (uterus transplant )  करने की कोशिश की गई थी.

लेकिन इन सभी मामलों में ऑपरेशन या तो असफल हुए हैं या महिलाओं का गर्भपात हो गया था.

कैसे सफल हुआ ये ऑपरेशन?


इस मामले में जिस महिला का गर्भाशय लिया गया वो तीन बच्चों की मां थी और उनकी मौत दिमाग़ में ख़ून बहने की वजह से हो गई थी.

वहीं, गर्भाशय पाने वाली महिला मेयर-रोकिटानस्की-होज़र सिंड्रोम पीड़ित थी जो हर साढ़े चार हज़ार महिलाओं में से एक महिला में पाई जाती है.

इस सिंड्रोम की वजह से योनि और गर्भाशय सही ढंग से विकसित नहीं हो पाता है. हालांकि, इस मामले में गर्भाशय पाने वाली महिला का अंडाशय ( womb) बिलकुल ठीक था.

डॉक्टरों ने मां बनने वाली महिला के शरीर से अंडे डासने से पहले उन्हें पिता बनने वाले व्यक्ति के स्पर्म से फ़र्टिलाइज़ कराया.

इसके बाद महिला को ऐसी दवाइयां दी गईं जिससे उसकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को कम हो जाए.

रोग प्रतिरोधक क्षमता बेहतर होने से वो गर्भाशय के शरीर में ठीक ढंग से व्यवस्थित होने में बाधा खड़ी कर सकता था.

इसके छह हफ़्तों बाद महिला को मासिक धर्म होना शुरू हो गए.

फिर, सात महीनों बाद फ़र्टिलाइज़्ड अंडों को महिला के गर्भाशय में डाला गया.

इसके बाद 15 दिसंबर 2017 को गर्भाशय पाने वाली महिला ने ऑपरेशन के ज़रिए 2.5 किलोग्राम की स्वस्थ बच्ची को जन्म दिया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here