The election rush in UP intensified-पूर्व मंत्री दारा सिंह, विधायक आरके वर्मा भी हुए साइकिल पर सवार

Akhilesh-Yadav
file

उत्तर प्रदेश सरकार के वन एवं पर्यावरण मंत्री पद से हाल ही में इस्तीफा दे चुके दारा सिंह चौहान और भाजपा के सहयोगी ‘अपना दल (सोनेलाल)’ के विधायक डॉ. आरके वर्मा रविवार को अपने समर्थकों के साथ समाजवादी पार्टी में शामिल हो गये। इस मौके पर चौहान ने कहा कि 2017 में जब भाजपा की सरकार बनी तब ‘सबका साथ-सबका विकास’ का नारा दिया गया था, लेकिन कालांतर में साथ तो सबका लिया गया, मगर विकास कुछ चंद लोगों का हुआ और बाकी लोगों को उनके हाल पर छोड़ दिया गया। चौहान ने कहा कि वह आने वाले दिनों में सभी पिछड़ों और दलित समाज को लामबंद करेंगे। चौहान के साथ पूर्वी उत्तर प्रदेश के कई नेताओं ने सपा की सदस्‍यता ग्रहण की। सपा में शामिल हुए अपना दल सोनेलाल के विधायक डॉ. आरके वर्मा को पार्टी नेतृत्‍व ने पिछले दिनों दल से निष्‍कासित कर दिया था।

गुजरात के लोगों को वापस भेजें : अखिलेश

सपा के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने रविवार को भाजपा पर आरोप लगाते हुए कहा कि गुजरात के लोगों को वापस नहीं भेजा तो उत्तर प्रदेश में चुनाव निष्पक्ष नहीं होगा। उन्होंने दावा किया कि सोशल मीडिया पर तस्वीरें आई हैं कि गुजरात के लोग यहां अफवाह फैलाने, साजिश करने, पैसा बांटने और लोगों के बीच नफरत फैलाने के लिए ट्रेनिंग दे रहे ह‍ैं। सपा मुख्यालय में यादव ने कहा कि वह चुनाव अायोग से शिकायत करेंगे और कहेंगे कि दूसरे राज्यों से आए लोगों को कोविड प्रोटोकॉल मानते हुए वापस उनके राज्य भेजा जाए। एक सवाल के जवाब में अखिलेश ने कहा कि हमारा कोई कार्यकर्ता दूसरे प्रदेश से नहीं आया है।

भाजपा में शामिल हुए पूर्व आईपीएस अधिकारी असीम अरुण को लेकर सपा प्रमुख ने कहा, ‘सोचो वर्दी में कैसे-कैसे लोग छिपे थे। पंचायत का चुनाव जब उत्तर प्रदेश में हुआ था तो मैंने कहा था कि भाजपा के लिए जिलाधिकारी और पुलिस कप्तान मिलकर चुनाव लड़ रहे हैं।’ यादव ने यह भी कहा कि वह चुनाव आयोग से शिकायत करेंगे कि पिछले पांच साल तक जो-जो अधिकारी लगातार असीम अरुण के साथ ड्यूटी पर रहे, उनको हटाया जाए वरना वे भाजपा कार्यकर्ता के रूप में कार्य करेगे। वहीं, उत्तर प्रदेश भाजपा प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी ने कहा कि अखिलेश यादव चुनाव में अपनी हार के कारण तलाशने की कोशिश में जुटे हैं।

अनुराग ठाकुर बोले

अनुराग ठाकुर ने कहा कि ‘समाजवादी पार्टी में वो जाते हैं जो दंगा करते हैं और भाजपा में वो शामिल होते हैं जो दंगा करने वालों को पकड़ते हैं। सपा के समाजवाद का असली खेल या तो प्रत्याशी को जेल या फिर बेल है।’ उन्होंने कहा कि सपा ने फ‍िर से साफ कर दिया है कि वो प्रदेश को फिर दंगा प्रदेश बनाने की कोशिश कर रही है।

UP Elections 2022- यूपी की इस सीट से चुनाव लड़ सकते हैं सीएम योगी, डिप्टी सीएम को भी उतारने की तैयारी