कुत्ते को हुआ कोरोना वायरस, हांगकांग में अलग पशु केन्द्र में रखा

dogs

कुत्ते को हुआ कोरोना वायरस और उसे अलग पशु केन्द्र में रखा गया है। मामला हांगकांग है। जहां एक पालतू कुत्ते में कोरोना वायरस का मामूली संक्रमण पाए जाने के बाद उसे पशु केंद्र में अलग-थलग रखा गया है।

कृषि, मत्स्य एवं संरक्षण विभाग ने शुक्रवार को कहा कि यह कुत्ता वायरस से प्रभावित 60 वर्षीय महिला का है और उसमें कोई “संबंधित लक्षण” नहीं देखे गए। एक प्रवक्ता ने कहा, “लेकिन नाक के और मुंह के नमूनों में कोविड-19 वायरस की हल्की पुष्टि हुई है।”

कुत्ते को हुआ कोरोना, जांच पर उठे सवाल

उन्होंने यह नहीं बताया कि पहली ही बार में जानवर की जांच आखिर क्यों की गई। उन्होंने कहा कि शहर में इस तरह का यह पहला मामला है। इस कुत्ते को बुधवार को उसकी मालकिन में संक्रमण का पता चलने के बाद घर से ले जाया गया और अस्पताल के पृथक वार्ड में रख दिया गया। विभाग ने कहा कि इसकी करीब से जांच की जाएगी और उसमें वायरस है या नहीं इसकी पुष्टि के लिए और जांच की जाएगी।

कुत्ते को हुआ कोरोना हो रही है जांच

कोरोना वायरस से प्रभावित कुत्ते को तब तक इस केंद्र में रखा जाएगा जब तक कि उसके नमूनों की जांच निगेटिव नहीं आती।

कुत्ते को हुआ कोरोना वायरस, रूस ने भी उठाये कदम

hongkong corona

रूस ने कोरोना वायरस के प्रकोप से बुरी तरह प्रभावित ईरान और दक्षिण कोरिया से मॉस्को की यात्रा को लेकर शुक्रवार को नये प्रतिबंधों की घोषणा की। एक बयान में प्रधानमंत्री मिखाइल मिशुस्तिन ने शिक्षा, रोजगार, पर्यटन और पारगमन के लिए रूस की यात्रा करने वाले ईरान के नागरिकों के वीजा पर अस्थायी रोक लगाने की घोषणा की।

यह भी पढ़ें: https://www.indiamoods.com/corona-virus-1500-deaths-in-china-5090-new-cases/

रूस ने कोरिया-ईरान से आने वालों पर पाबंदी लगाई

एक अलग शासनादेश में दक्षिण कोरिया से रूस आने वाले लोगों पर भी पाबंदियां लगाई गई हैं। इन प्रतिबंधों से आधिकारिक शिष्टमंडलों के सदस्यों को बाहर रखा गया है। मॉस्को ने संक्रमणों की संख्या में बढ़ोतरी के बीच इटली, ईरान और दक्षिण कोरिया की यात्रा न करने का नागरिकों को बुधवार को परामर्श जारी किया था।

चीन से नागरिकों को निकाला

वायरस के प्रकोप से सर्वाधिक प्रभावित चीन के वुहान से कई देशों ने अपने नागरिकों को निकाल लिया है, लेकिन अफ्रीकी देशों के हजारों छात्र अब भी वहीं हैं। इन छात्रों को निकालने के लिए सरकारों से की जा रही अपीलों के बावजूद, कई अफ्रीकी देशों ने कहा है कि उनका वहीं रहना उचित है।

वुहान में 4,000 से अधिक अफ्रीकी छात्रों के होने का अनुमान है। उनमें युगांडा के भी 70 छात्र शामिल हैं। सरकारों का कहना है कि उन्हें घर वापस लाना उप-सहारा अफ्रीका के लिए जोखिम भरा हो सकता है।

नाईजीरिया में भी कोरोना पहुंचा

उल्लेखनीय है कि नाइजीरिया के लागोस शहर में वायरस के पहले मामले की शुक्रवार को पुष्टि हुई। बोत्सवाना की सरकार ने वुहान में अपने प्रत्येक छात्र को हर महीने 144 डॉलर का भत्ता और भोजन, पानी तथा मास्क मुहैया कराने की बात कही है, लेकिन अनेक छात्र और उनके परिजन इससे संतुष्ट नहीं हैं।

कुत्ते को हुआ कोरोना,WHO जता चुका है चिंता

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) इस हफ्ते की शुरुआत में आगाह कर चुका है कि अगर घातक कोरोना वायरस का प्रकोप फैलता है तो अफ्रीकी स्वास्थ्य तंत्र इससे निपटने में नाकाम होगा। जापान में कोरोना वायरस से प्रभावित होक्काइदो क्षेत्र ने अपने निवासियों से इस हफ्ते के अंत तक घरों में ही रहने को कहा है।

यह उत्तरी इलाका तेजी से फैल रहे प्रकोप को रोकने के लिए संघर्ष कर रहा है। होक्काइदो के गवर्नर नाओमिची सुजुकी ने 19 मार्च तक आपात स्थिति घोषित की है।