Snowfall havoc in Pakistan’s Murree- हाइपोथर्मिया से 23 की गई जान

Deaths inside vehicles due to snowfall
Deaths inside vehicles due to snowfall

Snowfall havoc in Pakistan’s Murree-पाकिस्तान के पर्यटन स्थल मरी (Murree) में भारी बर्फ़बारी से कम से कम 23 पर्यटकों की मौत हो गई और बहुत से लोग फंसे हुए हैं जिनके बचाव के प्रयास जारी हैं. सूचना के अनुसार सबसे ज़्यादा मौतें गिल्डना इलाक़े में बर्फ़ में फंसी चार गाड़ियों में हुई हैं. गल्यात विकास प्राधिकरण के प्रवक्ता अहसन हमीद के मुताबिक़, गल्यात में महज़ एक दिन में तीन फ़ीट बर्फ़ पड़ी, जबकि शुक्रवार से पहले चार दिन तक चले दूसरे चरण में कुल ढाई फ़ीट बर्फ़ पड़ी जिससे जन जीवन अस्त-व्यस्त हो गया.

कार्बन मोनोऑक्साइड के कारण दम घुटने से हुईं मौतें

murree snow
murree snow

ये मौतें हाइपोथर्मिया यानी बहुत ज़्यादा ठंड से हुईं या कार्बन मोनोऑक्साइड के कारण दम घुटने से हुईं, इसके बारे में तो मेडिकल जांच के बाद अधिकारी ही बताएंगे. पाकिस्तान के पर्यटन स्थल मरी में भीषण बर्फबारी ने कहर बरपाया है। बर्फबारी में फंसे पर्यटकों में जान गंवाने वालों की संख्या रविवार को 23 पहुंच गई। एक बच्ची की गंभीर ज़ुकाम और निमोनिया की वजह से मौत हो गई। उसे वक्त पर अस्पताल नहीं पहुंचाया जा सका।

COVID-19 Vaccine for Children-15 से 18 साल के बच्चों को लगेगी वैक्सीन

बचाव अधिकारियों ने बताया कि कम से कम 23 लोगों की मौत हो गई है वहीं गाड़ियां कई फुट जमी बर्फ में फंसी हुई हैं। गृह मंत्री शेख रशीद अहमद ने एक बयान में मृतकों की संख्या की पुष्टि की। मंत्री ने कहा कि हालात को ‘ प्राकृतिक आपदा’ कहा जा सकता है। मंत्री के मुताबिक मौतों का कारण ‘दम घुटना’ है। प्रधानमंत्री के सहयोगी शाहबाज गिल ने कहा कि भारी बर्फबारी में लोगों ने कारों को सड़कों पर ही छोड़ दिया और होटलों में शरण लेने के लिए चल दिए जिससे ट्रैफिक जाम हो गया।

करीब 500 परिवार सुरक्षित निकाल गये

पंजाब पुलिस ने कहा कि मरी में 24 घंटों में 500 से ज्यादा परिवारों को बचाया गया और सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया। पंजाब पुलिस के प्रवक्ता ने बताया, ‘ सभी सैलानियों को बचा लिया गया और सुरक्षित जगहों पर ले जाया गया।’

Snowfall havoc in Pakistan’s Murree-अधिकारियों पर लापरवाही के आरोप

मौसम विभाग ने पांच जनवरी को अलर्ट जारी किया था कि भारी बर्फबारी के कारण छह से नौ जनवरी की दोपहर तक मरी, गलियत, नथियागली, कगन, नारन और अन्य इलाकों में सड़कें बंद हो सकती है। ‘डॉन ‘ अखबार के मुताबिक, इसके बावजूद संबंधित विभागों ने कोई कदम नहीं उठाए। मरी में पांच जनवरी से शनिवार सुबह तक 16.5 इंच बर्फबारी हुई।

इमरान खान क्या बोले-

प्रधानमंत्री इमरान खान ने ट्वीट किया, ‘जबरदस्त बर्फबारी और मौसम की स्थिति जाने बिना भारी संख्या में पर्यटकों के आने से जिला प्रशासन तैयारी नहीं कर सका। जांच के आदेश दिए गए हैं और इस तरह की त्रासदी दोबारा न हो, इसके लिए कड़े नियम बनाये जा रहे हैं।’

पंजाब सरकार ने भारी हिमपात के बाद मरी को आपदा प्रभावित क्षेत्र घोषित कर दिया है। विपक्षी राजनीतिक नेताओं ने सैलानियों की आमद से निपटने और अपर्याप्त तैयारी को लेकर सरकार की आलोचना की है।