Congress leader Joginder Singh Mann resigns from the party-केजरीवाल और भगवंत मान चमकौर साहिब में किसानों से मिले

Why did Kumar clash with Kejriwal?
Why did Kumar clash with Kejriwal?

Congress leader Joginder Singh Mann resigns from the party-आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल और पार्टी की पंजाब इकाई के संयोजक भगवंत मान ने पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के विधानसभा क्षेत्र चमकौर साहिब में कुछ किसानों से मुलाकात की। पार्टी द्वारा शुक्रवार को जारी किसानों से मुलाकात के संक्षिप्त वीडियो में केजरीवाल और मान सरसों के खेत में रखी चारपाई पर बैठे दिख रहे हैं और कुछ किसानों से बात कर रहे हैं। मान वीडियो में किसानों से पूछते सुने जा सकते हैं कि क्या उन्हें गन्ना फसल का भुगतान मिला है और किसान कह रहे हैं कि उनका बकाया अभी तक नहीं मिला। फिर केजरीवाल किसानों से पूछते हैं, ‘‘क्या आपको दो साल से फसल का पैसा नहीं मिला।”

एक किसान को आप नेताओं से कहते सुना जा सकता है कि इलाके के कई युवा बेरोजगार हैं। तब केजरीवाल कहते हैं, ‘‘तो क्या आप इस बार बदलाव ला रहे हैं?” एक बुजुर्ग किसान ने केजरीवाल से कहा, ‘‘हम आपके साथ हैं।” जिस पर दिल्ली के मुख्यमंत्री ने उनसे कहा कि उन्हें केवल उनका समर्थन चाहिए। पंजाब में 14 फरवरी को विधानसभा चुनाव के लिए मतदान होगा और कांग्रेस को हटाकर सत्ता में आने के लिए आप पार्टी पूरी मेहनत कर रही है।
केजरीवाल दो दिन के पंजाब दौरे पर थे, जो बृहस्पतिवार को समाप्त हुआ। इस दौरान उन्होंने घर-घर जाकर प्रचार किया और खुद को राज्य के मुख्यमंत्री की दौड़ से बाहर बताया।
आप ने एक दिन पहले ‘जनता चुनेगी अपना मुख्यमंत्री’ अभियान शुरू किया और कहा कि लोगों की पसंद के आधार पर मुख्यमंत्री पद के लिए पार्टी का चेहरा तय किया जाएगा।
केजरीवाल को वीडियो में किसानों से दिल्ली में स्कूलों और अस्पतालों के बारे में पूछते भी सुना जा सकता है। फिर वह किसानों से पूछ रहे हैं कि क्या उनके इलाके में कोई सरकारी स्कूल है, जिस पर बुजुर्ग किसान कहता है कि स्कूल में केवल पांच शिक्षक हैं, जबकि 12 शिक्षक चाहिए। केजरीवाल उनसे कह रहे हैं कि अगर आप सत्ता में आती है तो दिल्ली की तरह सरकारी स्कूलों की हालत सुधारेगी।

आप में शामिल होंगे जोगिन्द्र मान?

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पंजाब के पूर्व मंत्री जोगिंदर सिंह मान ने शुक्रवार को पार्टी से 50 साल पुराना नाता तोड़ते हुए इस्तीफा दे दिया। अनुसूचित जाति (एससी) समुदाय के नेता मान करोड़ों रुपये के कथित पोस्ट-मैट्रिक एससी छात्रवृत्ति घोटाले के अपराधियों के खिलाफ ‘‘कोई कार्रवाई नहीं” किये जाने और फगवाड़ा को जिला का दर्जा नहीं देने से नाराज थे। उन्होंने पार्टी और पंजाब कृषि उद्योग निगम के अध्यक्ष के रूप में इस्तीफा दे दिया। सूत्रों ने बताया कि मान के आम आदमी पार्टी (आप) में शामिल होने की संभावना है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को लिखे पत्र में, फगवाड़ा के पूर्व विधायक ने कहा कि उनका एक सपना था कि वह एक कांग्रेसी के रूप में मरेंगे। उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना के दोषियों को कांग्रेस का संरक्षण है, और ऐसे में मेरी अंतरात्मा मुझे यहां (पार्टी में) रहने की अनुमति नहीं देती है।” मान बेअंत सिंह, राजिंदर कौर भट्टल और अमरिंदर सिंह नीत सरकारों में मंत्री रह चुके हैं।

Congress leader Joginder Singh Mann resigns from the party

उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘कैप्टन अमरिंदर सिंह,नवजोत सिंह सिद्धू जैसे राजे महाराजे, धनाढ्य और अवसरवादी नेता जब से कांग्रेस में आये,उन्होंने अपने निहित स्वार्थों के लिये पार्टी का इस्तेमाल किया और पार्टी के सिद्धांत और मूल्य हाशिये पर चले गये। बस सबका एक ही मूल मंत्र रह गया कि किस तरह चुनाव जीतकर सत्ता को हथियाया जाये।”
एससी छात्रवृत्ति घोटाला 2020 में तत्कालीन अतिरिक्त मुख्य सचिव की एक रिपोर्ट के बाद सामने आया था, जिसमें 55.71 करोड़ रुपये की कथित हेराफेरी का पता चला था।
रिपोर्ट में तत्कालीन सामाजिक न्याय मंत्री साधु सिंह धर्मसोत की कथित रूप से घोटाले में शामिल लोगों को बचाने में भूमिका पर भी सवाल उठाया गया था।
तत्कालीन मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने राज्य के तत्कालीन मुख्य सचिव को पूरी जांच करने का निर्देश दिया था। आईएएस अधिकारियों की तीन सदस्यीय समिति के निष्कर्षों के आधार पर मुख्य सचिव की रिपोर्ट में धर्मसोत को दोषी नहीं बताया गया था। मान ने कहा कि वह पहले दिन से तत्कालीन मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और मौजूदा मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के सामने फगवाड़ा को जिला का दर्जा देने के मुद्दे को उठा रहे थे। उन्होंने आरोप लगाया कि लेकिन इस पर कोई ध्यान देने के बजाय उन्होंने फगवाड़ा के निवासियों की लंबे समय से लंबित इस मांग को नजरअंदाज कर उनकी भावनाओं और आकांक्षाओं को ठेस पहुंचाई है। भाषा