एनडी तिवारी के बेटे रोहित की हत्या में पत्नी अपूर्वा गिरफ्तार, गुनाह कबूला

rohit-shekhar-wife

एनडी तिवारी के बेटे रोहित की हत्या में पत्नी अपूर्वा गिरफ्तार, गुनाह कबूला। कांग्रेस के दिग्गज नेता और चार बार यूपी और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री रहे नारायण दत्त तिवारी के बेटे रोहित शेखर तिवारी की हत्या का मामला पुलिस ने सुलझा लिया है. इस हत्याकांड के मामले में आखिरकार क्राइम ब्रांच ने रोहित की पत्नी अपूर्वा शुक्ला को गिरफ्तार कर लिया. ये गिरफ्तारी अपूर्वा के खिलाफ ठोस सबूत मिलने के बाद की गई है. बताते चलें कि इस मामले में शुरू से ही शक की सुई रोहित की पत्नी की तरफ घूम रही थी.

बार-बार बयान बदलती रही अपूर्वा

rohit-shekhar-wife

पुलिस सूत्रों के मुताबिक रोहित की पत्नी अपूर्वा लगातार इस मामले में बयान बदल रही थी. उससे सारा शक उसी के इर्ग-गिर्द आकर ठहर जाता था. वारादत वाली रात को लेकर अपूर्वा ने अब तक तीन अलग-अलग बयान दिए. जिसकी वजह से पुलिस का शक पुख्ता होने लगा था. पुलिस वारदात के बाद से रोहित की पत्नी समेत घर के 6 लोगों से पूछताछ कर रही थी.

हत्या की रात भी हुआ था झगड़ा

Rohit-Shekhar with father nd tiwari

दिल्ली क्राइम ब्रांच की पूछताछ में आखिर अपूर्वा ने सच उगल ही दिया. अपूर्वा के लगातार बदलते बयानों से पुलिस को उस पर पूरा शक गहरा गया था. रोहित शेखर की मौत के बाद जिस तरह के घटनाक्रम सामने आये उससे अपूर्वा को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई. उससे साफ हो गया कि हत्या वाली रात अपूर्वा और रोहित के बीच झगड़ा हुआ था.

अपूर्वा ने रोहित को महिला मित्र के साथ देखा था

झगड़े का कारण था कि उस रात रोहित अपनी एक महिला मित्र के साथ शराब पी रहा था और अपूर्वा ने उसे देख लिया था. उधर, अपूर्वा की अपने मायके वालों के लिए अलग से मकान बनाने को लेकर भी रोहित से अनबन चल रही थी. बताते हैं कि अपूर्वा और रोहित के बीच इस मामले को लेकर हत्या वाली रात हाथापाई हुई थी और उसी दौरान रोहित का गला दबाकर उसे मार दिया गया.

हत्या के बाद अपूर्वा ने अपना फोन फार्मेट किया

rohit with mother ujjawala

पुलिस ने अपूर्वा का ब्लड सेंपल और घटनास्थल पर पाए गए खून के नमूने भी लिए थे. जिसे परीक्षण के लिए भेजा गया है. अपूर्वा ने सबूत मिटाने के लिए अपना मोबाइल तक फार्मेट कर दिया था और जिस कमरे में रोहित की हत्या हुई वहां के सीसीटीवी कैमरे खराब होना भी इस बात की तस्दीक करता था कि हत्या में कोई बाहरी व्यक्ति नहीं, घर का ही कोई शख्स शामिल था.

अपूर्वा के बयानों के अनुसार उसके और रोहित के बीच में हाथापाई के दौरान दोनों ही एक दूसरे को मारने की कोशिश कर रहे थे. जिसमें अपूर्वा कामयाब हो गई.