कोरोना वायरस से प्रेगमेंट महिलाओं में खून के थक्के जमने का जोखिम, सावधानी ही बचाव

pregnancy 1

कोरोना वायरस से प्रेगमेंट महिलाओं में खून के थक्के जमने का खतरा है। वैज्ञानिकों का कहना है कि गर्भवती स्त्रियों को कोविड-19 के कारण खून के थक्के जमने का जोखिम होता है। यह जोखिम उन महिलाओं को भी होता है जो एस्ट्रोजन वाले गर्भनिरोधक अथवा हार्मोन रिप्लेसमेंट थैरेपी ले रही हों।

कोरोना वायरस से प्रेगमेंट महिलाओं में बढ़ता है यह हार्मोन

अमेरिका के टफ्ट्स विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं समेत अन्य शोधकर्ताओं के मुताबिक कोविड-19 के कारण होने वाली जटिलताओं में ऐसे लोगों में खून के थक्के जमने की परेशानी भी शामिल है जो संक्रमण की चपेट में आने से पहले स्वस्थ थे। उन्होंने कहा कि गर्भावस्था के दौरान स्त्रियों में पाया जाने वाला हार्मोन एस्ट्रोजन खून के थक्के जमने के जोखिम को बढ़ाता है।

गर्भ निरोधक गोलियां या हार्मोन रिप्लेसमैंट थैरेपी लेने वाली महिलाओं को भी यह जोखिम होता है। ऐसे में यदि महिलाएं कोरोना वायरस से संक्रमित हो जाती हैं तो यह आशंका और भी बढ़ जाती है। शोधकर्ताओं का मानना है कि रक्त के गाढ़ा होने या खून के थक्के जमने से कोरोना वायरस का संबंध और बेहतर ढंग से समझने के लिए अधिक शोध की आवश्यकता है।

कोरोना वायरस से प्रेगमेंट महिलाओं को जोखिम

एंडोक्रिनोलॉजी नामक पत्रिका में प्रकाशित शोध में विशेषज्ञों ने कहा कि ऐसे में महिलाओं को रक्त को पतला करने वाली उपचार पद्धति लेनी पड़ सकती है या उन्हें अपनी एस्ट्रोजन वाली दवाएं बंद करना पड़ सकता है।

शोध में खुलासा

pregnancy

शोधकर्ताओं में से एक डेनियल स्प्राट ने कहा, ‘इस वैश्विक महामारी के दौर में, यह पता लगाने के लिए हमें और अधिक शोध करने की जरूरत है कि गर्भावस्था के दौरान कोरोना वायरस से संक्रमित होने वाली महिलाओं को खून पतला करने वाला उपचार देने की जरूरत है या नहीं और गर्भनिरोधक या हार्मोन थैरेपी ले रही महिलाओं को इन्हें लेना बंद करना चाहिए या नहीं।’

देश में 55 हज़ार के पार पहुंचा मरीज़ों का आंकड़ा

बता दें कि भारत में कोरोना का आकंड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है। भारत में शुक्रवार की सुबह एक दिन में कोरोनावायरस (India Coronavirus News Cases) के सबसे ज्यादा मामले सामने आए हैं. 31 जुलाई को पिछले 24 घंटों में देश में कोरोनावायरस के नए मरीजों का मामला 55,000 से ऊपर हो गया है. एक दिन में सबसे ज़्यादा 55,078 नए COVID-19 केस सामने आए हैं, वहीं, 779 मरीजों की मौत हो गई है.

इसके साथ ही भारत में कुल कोरोनावायरस केस 16 लाख के पार पहुच गए हैं. देश में अब वायरस के कुल मामले 16,38,870 हो चुके हैं. फिलहाल देश में संक्रमण के कुल सक्रिय मामले 5,45,318 हैं. भारत को 16 लाख का आंकड़ा पार करने में महज़ 183 दिन लगे हैं.