सिंघू बार्डर पर बिक रहे राकेश टिकैत के CUTOUTS, पोस्टर और किसान आंदोलन का साहित्य

ghazipur
file

दिल्ली के सिंघू बार्डर पर राकेश टिकैत के CUTOUTS की मांग, केंद्र के नये कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलन में, गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर परेड के दौरान हुयी हिंसा के बाद, फिर से जान फूंक देने का श्रेय पाने वाले इन किसान नेता की बढ़ती लोकप्रियता दर्शाती है। सिंघू बार्डर पर सड़क किनारे स्टॉलों पर बैज, पोस्टर एवं किसान आंदोलन से जुड़े साहित्य बिकते नजर आ जाते हैं।

एक कटआउट 20 रु. में बिक रहा

ticket bandhu

प्रदर्शन स्थल पर एक ऐसा ही स्टॉल लगाये वासिम अली ने कहा कि हाथ में रखने वाले टिकैत के कटआउट की अच्छी खासी मांग है। उसने कहा, ‘टिकैत का कटआउट 20 रूपये का है। मैं पिछले कुछ दिनों से बेच रहा हूं क्योंकि उसकी बड़ी मांग है। ‘ पश्चिम दिल्ली के बवाना के रहने वाले अली का कहना है कि रोज करीब 700-800 कटआउट बिक जाते हैं। उसने कहा, ‘ आमतौर पर मैं सदर बाजार से ये कटआउट खरीदता हूं और उन्हें यहां बेचता हूं। मेरे स्टॉल पर यह सबसे अधिक मांग वाली चीज है। ‘

यह भी पढ़ें:राहुल ने किसान आंदोलन पर सरकार को घेरा, बीजेपी ने ‘भारत विरोधी तत्वों’ के साथ बैठक करने का आरोप जड़ा

राकेश टिकैत के CUTOUTS को हाथ में लेकर घूम रहे आंदोलनकरी

टिकैत की छवि को तब बल मिला जब गणतंत्र दिवस की हिंसा के बाद गाजीपुर बार्डर पर बड़ी संख्या में उत्तर प्रदेश के पुलिसकर्मियों के जमा हो जाने के बाद भी उन्होंने आंदोलन जारी रखने की घोषणा की । हालांकि ऐसी अटकलें थीं कि उन्हें गिरफ्तार किया जा सकता है। गणतंत्र दिवस पर प्रदर्शनकारी किसानों का एक वर्ग दिल्ली में घुस गया और वह आईटीआो एवं लालकिले तक पहुंच गया।

यह भी पढ़ें: किसान आंदोलन पर विदेशी हस्तियों की टिप्पणी पर बोली भाजपा- विदेशी ताकतों से प्रमाणपत्र की ज़रूरत नहीं

राकेश टिकैत के CUTOUTS के साथ किसान आंदोलन का साहित्य भी बिक रहा

इस वर्ग ने पुलिस के साथ झड़प की और इस झड़प में बड़ी संख्या में लोग घायल हुए तथा बसों समेत संपत्तियों को नुकसान पहुंचाया गया। जब गाजीपुर बार्डर पर बड़ी संख्या में उत्तर प्रदेश के पुलिसकर्मी पहुंचे तब भारतीय किसान यूनियन के नेता टिकैत अस्वस्थ थे। वह विवादास्पद कृषि कानूनों के खिलाफ वहां दो महीने से अधिक समय से डेरा डाले हुए थे। उन्होंने भावुक भाषण दिया और फिर आंदोलन में तेजी आ गयी।