Periods आपको निचोड़ देते हैं? गर्म पानी का सेंक या अजवायन…सब बेअसर होता है, तब कारगार है योगासन

Periods के दौरन शरीर व पेड़ू में दर्द व ऐंठन आम है। कई बार ये दर्द असहनीय हो जाती है, जो महिला के पेट के निचले हिस्से, पेड़ू, पीठ के निचले हिस्से और जांघों तक पहुंच जाती है। Periods के दौरान कुछ महिलाएं को उल्टी, सिरदर्द, चक्कर, थकान, कब्ज और सूजन की शिकायत रहती है। इसे मेडिकल भाषा में डिसमेनरिआ भी कहा जाता है। इन समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए आप स्वस्थ खानपान, जीवनशैली और योगासन अपनाएं।

कैट या काउ पोज

यह आसन शरीर को गर्मी देता है। साथ ही मासिक धर्म की पीड़ा से राहत दिलाता है। इस आसन में मुख्य रूप से पीठ और पेट की मांसपेशियों को खींच औेर तानकर राहत मिलती है। जब आप काउ पोज में बैठते हैं, तो सांस लें और छोड़ें। दूसरी ओर कैट पोज में अंदर की ओर कुंडली मारकर बैठ जाएं।

ऊष्ट्रासन (कैमेल पोज)

दोनों घुटनों पर बैठ जाएं। ध्यान रहें दोनों घुटने एक-दूसरे से थोड़ी दूरी पर हों। शरीर के निचले हिस्से को हथेलियों का सहारा दें और छाती व धड़ को ऊपर उठाएं। इस अवस्था में कंधे जमीन से सटे होने चाहिए। ऐसा करते समय कूल्हों को आगे की तरफ ले जाएं। अपनी हथेली से एड़ियों को पकड़ें और आकाश की ओर देखें। इस आसन से धड़, सीना और पेट में तनाव आता है। साथ ही कंधों को आराम मिलता है, मांसपेशियां दुरुस्त होती हैं और बेचैनी कम होती है।

ये भी पढ़ें : https://www.indiamoods.com/diwali-festival-lights-celebrate-pure-heart-ma-laxmi-shower-blessings/

Periods आपको निचोड़ देते हैं?, स्पाइन ट्विस्ट

यह आसन करने से शरीर को आराम मिलता है, स्फूर्ति आती है, शरीर से हानिकारक रसायन निकलते हैं। साथ ही शरीर से दूषित पर्दाथ बाहर निकाल जाते हैं, जो शरीर को तरोताजागी देते हैं। यह आसन करने के लिए कुछ देर तक रीढ़ की हड्डी को मरोड़ें। इस दौरान सांस लेते-छोड़ते रहें। इससे मासिक धर्म के दौरान आपकी नाड़ियों को आराम और पेड़ू के दर्द से छुटकारा मिलेगा। टांगों, कंधों और कूल्हों को आराम दें और कूल्हे के नीचे एक तकिया लगा लें।

स्टैंडिंग फाॅर्वर्ड फोल्ड

इससे रीढ़ और कूल्हे में तनाव आता है और टांगों व पीठ के दर्द से आराम मिलता है। इससे घुटने के पीछे की नस, पिंडलियों और पीठ में खिंचाव आता है। साथ ही शरीर में स्फूर्ति आती है। इससे पूरे शरीर में रक्त स्राव सामान्य हो जाता है और दर्द से आराम मिलता है। इस आसन में आप चाहें तो एक हाथ से दूसरी कोहनी पकड़ सकते हैं।

नीज टु चेस्ट पोज

इस आसन से शरीर के निचले हिस्से और पेट की मांसपेशियों में खिंचाव आता है, जिसके दर्द से राहत मिलती है। यही नहीं इस आसन से पेट तक रक्त स्राव बढ़ता है, आंतरिक अंगों व मस्तिष्क को आराम मिलता है और बेचैनी कम होती है। आप पेट के बल लेटकर भी इस आसन को दोहरा सकते हैं।

Periods आपको निचोड़ देते हैं?, चाइल्ड पोज

यह आसन Periods के दौरान पीठ दर्द से राहत देता है। इस आसन में पीठ के निचले हिस्से को धीरे-धीरे खींचने से पीठ का दर्द कम होती है। साथ ही, मस्तिष्क को भी शांति मिलती है। यह आसन करने के लिए सबसे पहले गहरी सांस लें। शरीर के अंदर और इससे बाहर जाती सांसों का अहसास करें। कुल्हों पर बैठकर आराम करें। शरीर को ऊपरी हिस्से को जंघाओं पर थाम कर रखें। इससे थकान दूर होती है। आप चाहें तो धड़ के नीचे तकिया रख सकते हैं। ऐसा करने से आप आसन की अवधी बढ़ा सकते हैं।