Panchang 23 May Sunday, मोहिनी एकादशी में ‘त्रिस्पृशा’ का दुर्लभ संयोग

पद्मपुराण के अनुसार यदि सूर्योदय से अगले सूर्योदय तक थोड़ी सी एकादशी, द्वादशी, एवं अन्त में किंचित् मात्र भी त्रयोदशी हो, तो वह ‘त्रिस्पृशा-एकादशी’ कहलाती है ।यदि एक ‘त्रिस्पृशा-एकादशी’ को उपवास कर लिया जाय तो एक सहस्त्र एकादशी व्रतों का फल (लगभग पुरी उम्रभर एकादशी करने का फल )प्राप्त होता है ।

Aaj Ka पंचांग 23 May

  • 🌳 दिनांक 23 मई 2021
  • 🙏🏻 दिन – रविवार 🌞 सूर्योदय – 05:43
  • 🌳 सूर्यास्त – 07:03
  • 🌲 विक्रम संवत – 2078 🌴 संवत्सर का नाम राक्षस
  • 🌳 शक संवत 1943 ,🦚 अयन – उत्तरायण
  • 🐦 ऋतु – बसंत,
  • 🌳 मास – वैशाख
  • 🐚 पक्ष – शुक्ल
  • 🌻 तिथि – एकादशी प्रातः 06:43 पश्चात द्वादशी रात्रि 27:39 पश्चात त्रयोदशी
  • चंद्रमा 👉 कन्या राशि में रात्रि 11:04 तक रहेंगें।
  • राहुकाल 👉 संभव हो तो सायं 05:23 से 07:03 तक महत्वपूर्ण कार्य न करें।
  • दिन का पर्व – भागवत एकादशी।
  • पंचक – पंचक नहीं है।
Radha_Krishna_dn
Radha_Krishna

त्रिस्पृशा-एकादशी

पद्मपुराण के अनुसार यदि सूर्योदय से अगले सूर्योदय तक थोड़ी सी एकादशी, द्वादशी, एवं अन्त में किंचित् मात्र भी त्रयोदशी हो, तो वह ‘त्रिस्पृशा-एकादशी’ कहलाती है ।यदि एक ‘त्रिस्पृशा-एकादशी’ को उपवास कर लिया जाय तो एक सहस्त्र एकादशी व्रतों का फल (लगभग पुरी उम्रभर एकादशी करने का फल )प्राप्त होता है ।

यह भी पढ़ें: नए नाम के साथ लौटा PUBG, नाम दिया गया Battlegrounds Mobile India, जानिए क्या हैं Features ?

‘त्रिस्पृशा-एकादशी’ का पारण

त्रिस्पृशा-एकादशी’ का पारण त्रयोदशी मे करने पर 100 यज्ञों का फल प्राप्त होता है । प्रयाग में मृत्यु होने से तथा द्वारका में श्रीकृष्ण के निकट गोमती में स्नान करने से, जो शाश्वत मोक्ष प्राप्त होता है, वह ‘त्रिस्पृशा-एकादशी’ का उपवास कर घर पर ही प्राप्त किया जा सकता है, ऐसा पद्मपुराण के उत्तराखण्ड में ‘त्रिस्पृशा-एकादशी’ की महिमा में वर्णन है !
कृपया इस पोस्ट को सेअर अवस्य करें।

Mohini Ekadashi significance : https://www.indiatoday.in/information/story/mohini-ekadashi-2021-date-time-and-significance-1805449-2021-05-22

योग भी 27 प्रकार के होते हैं

नक्षत्र की भांति योग भी 27 प्रकार के होते हैं। सूर्य-चंद्र की विशेष दूरियों की स्थितियों को योग कहा जाता है। दूरियों के आधार पर बनने वाले 27 योगों के नाम – विष्कुम्भ, प्रीति, आयुष्मान, सौभाग्य, शोभन, अतिगण्ड, सुकर्मा, धृति, शूल, गण्ड, वृद्धि, ध्रुव, व्याघात, हर्षण, वज्र, सिद्धि, व्यातीपात, वरीयान, परिघ, शिव, सिद्ध, साध्य, शुभ, शुक्ल, ब्रह्म, इन्द्र और वैधृति।

Online Panchang : https://www.drikpanchang.com/panchang/day-panchang.html?date=23/05/2021