ब्लैकमेंलिंग कर रहा है पाकिस्तान, पायलट की रिहाई के लिये रखी शर्त

wing commander abhinandan

पीओके में पाकिस्तानी विमानों का पीछा करते पकड़े गये भारतीय पायलट अभिनंदन वर्तमान की रिहाई के लिए अब ब्लैकमेलिंग कर रहा है पाकिस्तान। पाकिस्तानी विदेश मंत्री महमूद कुरैशी ने कहा है कि उनका देश अभिनंदन की रिहाई के लिए तैयार है बशर्ते कि भारत बातचीत के लिए आगे आए। उन्होंने कहा कि भारतीय पायलट सुरक्षित है और उसकी रिहाई हो सकती है और पाकिस्तान पहले की तरह सकारात्मक कदम उठाने के लिए तैयार है। जाहिर है कि इस कदम से पाकिस्तान की हताशा जाहिर होती है। वह अभिनंदन के जरिए भारत को ब्लैकमेल करना चाहता है।

wing commander abhinandan

कुरैशी ने कहा, ‘भारतीय पायलट सुरक्षित है और हम उसकी रिहाई के बारे में सोच सकते हैं। पाकिस्तान पिछले समय की तरह इस बार भी सकारात्मक कदम उठाने के लिए तैयार है। मैं भारत के लोगों को बताना चाहूंगा कि पाकिस्तान एक जिम्मेदार देश है।’ बता दें कि 27 फरवरी को पाकिस्तानी लड़ाकू विमानों को वापस खदेड़ते समय विंग कमांडर अभिनंदन पाकिस्तानी सुरक्षाबलों के हाथ लग गए। पाकिस्तानी एफ 16 ने भारतीय वायु सीमा का उल्लंघन करते हुए रक्षा प्रतिष्ठानों को निशाना बनाने की कोशिश की लेकिन वायु सेना की मुस्तैदी के चलते उन्हें वापस भागना पड़ा। इस दौरान भारतीय वायु सेना ने पाकिस्तान के एक लड़ाकू विमान एफ-16 को मार गिराया।

अभिनंदन ‘प्रिजनर ऑफ वॉर’ हैं और जिनीवा संधि के मुताबिक उन्हें एक पीओडब्ल्यू की सभी सुविधाएं मिलनी चाहिए लेकिन पाकिस्तान जिनीवा संधि का खुला उल्लंघन कर रहा है। पाकिस्तान में मीडिया के सामने अभिनंदन का परेड कराया गया है और उनके साथ मारपीट की गई है। इतना ही नहीं भारतीय सेना और भारतीय लोगों का मनोबल तोड़ने और मनोवैज्ञानिक बढ़त बनाने के लिए पाकिस्तान ने अभिनंदन के वीडियो जारी किए हैं। अभिनंदन को बंधक बनाकर वह इसे अपनी जीत के रूप में पेश कर रहा है।

भारत अपने पायलट रिहाई के लिए पाकिस्तान पर दबाव बना रहा है। भारत ने बुधवार को पाकिस्तान से स्पष्ट रूप से कहा कि वह अपने पायलय की तुरंत रिहाई चाहता है। पाकिस्तान चाहकर भी ज्यादा दिनों तक अभिनंदन को अपनी हिरासत में नहीं रख सकता क्योंकि जिनीवा संधि के मुताबिक उसे हर हाल में भारतीय पायलय को लौटना होगा। 1999 के कारगिल वार के समय बंधक बनाए गए भारतीय पायलट नचिकेता को भी उसे वापस लौटाना पड़ा था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here