वेदांता के तूतीकोरन प्लांट में बनेगी ऑक्सीजन, भारत को 700 Oxygen concentrator भेज रहा आयरलैंड

tuticorin

सुप्रीम कोर्ट ने मंगवलार को वेदांता के तूतीकोरन स्थित ऑक्सीजन प्लांट के संचालन की अनुमति दे दी और कहा कि ऑक्सीजन की राष्ट्रीय आवश्यकता के मद्देनजर यह आदेश पारित किया गया है। जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़, जस्टिस एल नागेश्वर तथा जस्टिस एस रविन्द्र भट की पीठ ने कहा कि इस आदेश की आड़ में वेदांता को तांबा गलाने वाले संयंत्र में प्रवेश और उसके संचालन की अनुमति नहीं दी गई है।

राष्ट्र संकट का सामना कर रहा है- सुप्रीम कोर्ट

अदालत ने कहा कि वेदांता द्वारा ऑक्सीजन उत्पादन को लेकर राजनीति नहीं होनी चाहिये क्योंकि इस समय राष्ट्र संकट का सामना कर रहा है। कोर्ट ने कहा कि वेदांता को ऑक्सीजन संयंत्र के संचालन की अनुमति देने का आदेश किसी भी तरह से कंपनी के हित में किसी प्रकार का सृजन नहीं माना जाएगा। कोर्ट ने तमिलनाडु सरकार को ऑक्सीजन संयंत्र में गतिविधियों पर नजर रखने के लिये जिला कलेक्टर और तूतीकोरन के पुलिस अधीक्षक को शामिल कर एक समिति गठित करने का निर्देश दिया।

प्रदूषण के कारण बंद है वेदांता के तूतीकोरन का प्लांट

tuticorin plant

शीर्ष अदालत ने 23 अप्रैल को कहा था कि ऑक्सीजन की कमी की वजह से लोग मर रहे हैं। उसने तमिलनाडु सरकार से पूछा था कि वह ऑक्सीजन उत्पादन के लिये तूतीकोरिन में वेदांता के स्टरलाइट तांबा इकाई को अपने नियंत्रण में क्यों नहीं ले लेती, जो प्रदूषण चिंताओं को लेकर मई 2018 से बंद है।

यह भी पढ़ें:Corona Vaccine and Periods, माहवारी में भी सुरक्षित है कोरोना की वैक्सीन लेना

वेदांता के तूतीकोरन में बनेगी ऑक्सीजन, 700 Oxygen Concentrator भारत को भेजेगा आयरलैंड

आयरलैंड ने कोरोना वायरस संकट से निपटने के लिये मदद के तौर भारत को 700 ऑक्सीजन संकेंद्रक और अन्य चिकित्सा सामग्री भेजने की मंगलवार को घोषणा की। यहां आयरलैंड दूतावास ने कहा कि ऑक्सीजन संकेंद्रक बुधवार सुबह तक भारत पहुंचने की उम्मीद है। दूतावास ने कहा, ‘आयरलैंड रोगियों के इलाज में स्वास्थ्य कर्मियों की मदद के लिये भारत को 700 ऑक्सीजन संकेंद्रक भेज रहा है। संकेंद्रकों के बुधवार तड़के भारत पहुंचने की उम्मीद हैं।’ आयरलैंड के राजदूत ब्रेंडन वार्ड ने कहा कि आयरलैंड भारत सरकार से करीबी संपर्क बनाए हुए है और महामारी से निपटने में भारत की और अधिक सहायता के रास्ते तलाश रहा है।