महाराष्ट्र के नासिक में Oxygen tanker लीक होने से रुकी सप्लाई, 24 लोगों की मौत

oxygen nashik

देश में कोरोना वायरस महामारी की वजह से उपजे ऑक्सीजन संकट के बीच नासिक में Oxygen tanker लीक होने से 24 मरीज़ों की मौत हो गई। बुरी तरह प्रभावित राज्य महाराष्ट्र से यह एक बेहद दर्दनाक खबर मिली है। महाराष्ट्र के नासिक में डॉ. जाकिर हुसैन अस्पताल के बाहर ऑक्सीजन टैंकर लीक होने से 24 लोगों ने दम तोड़ दिया। लीकेज के कारण अस्पताल में 30 मिनट तक ऑक्सीजन सप्लाई बाधित रही। इसके कारण वेंटिलेटर पर रखे गए 24 मरीजों की मौत हो गई। खबरों के मुताबिक, अभी कई लोगों की हालत गंभीर बनी हुई है। महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा कि संभवतः ऑक्सीजन सप्लाई में आई रुकावट की वजह से इन मरीजों की मौत हुई है।

नासिक में Oxygen tanker लीक

जिला कलेक्टर के मुताबिक, इस हादसे में मरने वालों की संख्या अब 24 हो गई है। बता दें कि पहले हादसे में 11 लोगों के मारे जाने की जानकारी मिली थी। खबर के मुताबिक, अस्पताल में करीब 171 मरीजों को ऑक्सीजन दी जा रही है। जानकारी के मुताबिक इस अस्पताल में 65 से ज्यादा मरीज वेंटीलेटर और ऑक्सीजन सपोर्ट पर थे। जिनमें से 35 मरीजों की हालत नाजुक बताई जा रही थी। मरने वाले लोगों में पुरुष और महिलाएं दोनों बताए जा रहे हैं.

हादसे की जांच जारी

नासिक के जिलाधिकारी सूरज मांढरे के मुताबिक आज सुबह अस्पताल में लगे ऑक्सीजन टैंक का कॉक खराब हो गया था, जिसकी वजह से गैस का लीकेज शुरू हुआ। इस वजह से ऑक्सीजन की सप्लाई का प्रेशर कम हो गया और ऑक्सीजन सपोर्ट पर रखे गए 24 मरीजों की मौत हो गयी है। हालांकि इस लीकेज को आधे घंटे के भीतर दुरुस्त कर दिया गया । मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने नासिक हादसे में मरने वाले 24 लोगों के परिजनों को 5 लाख रुपये के मुआवजे का ऐलान किया। साथ ही उच्चस्तरीय जाँच के आदेश दिए।

यह भी खबर: कोरोना के चलते निरंजनी अखाड़े ने किया कुंभ खत्म करने का ऐलान, जानिये इस अखाड़े के बारे में…

नासिक में Oxygen tanker लीक, फिर शुरू ऑक्सीजन सप्लाई


इस घटना के बाद नासिक के अस्पताल में फिर से ऑक्सीजन की सप्लाई शुरू हो चुकी है। मरीजों को बेड पर ऑक्सीजन देने का काम किया जा रहा है।

ऑक्सीजन टैंक के लिए नहीं थी टेक्नीकल टीम

जानकारी के मुताबिक अस्पताल में जिस कंपनी ने ऑक्सीजन टैंक स्थापित किया था। उनकी तरफ से टैंक की देख-रेख के लिए टेक्नीकल टीम के व्यक्ति का होना जरूरी होता है। ऑक्सीजन प्लांट की देखरेख करना डॉक्टरों का काम नहीं होता है।