जापान में ड्रग्स के साथ गिरफ्तार हुए नेस वाडिया को 2 साल की कैद : रिपोर्ट

ness wadia

इस बार आईपीएल सीज़न के दौरान किंग्स इलेवन पंजाब के साथ में नेस वाडिया की गैर मौजूदगी कई सवाल खड़े कर रही थी। बहुत सारे लोग सवाल कर रहे थे कि आखिर नेस वाडिया इस बार टीम के साथ एक बार भी क्यों नज़र नहीं आए? जबकि को ऑनर प्रीति ज़िंटा बराबर टीम की हौसला अफज़ाई करती रहीं। अब खबरें आ रही हैं कि भारत के एक बड़े कारोबारी घराने के वारिस नेस वाडिया को जापान में एक स्की ट्रिप के दौरान ड्रग्स रखने के लिए सज़ा सुनाई गई है।
फाइनेंशियल टाइम्स में प्रकाशित ख़बर के मुताबिक, 283 साल पुराने वाडिया ग्रुप के वारिस तथा इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) की किंग्स इलेवन पंजाब (KXIP) टीम के सह-मालिक नेस वाडिया को मार्च महीने की शुरुआत में उत्तरी जापानी द्वीप होक्काइडो के न्यू चिटोस एयरपोर्ट पर गिरफ्तार किया गया था।

पतलून में मिली थी चरस

ness with nusli wadia

सरकारी ब्रॉडकास्टर NHK के स्थानीय होक्काइडो स्टेशन पर जारी संक्षिप्त ख़बर के मुताबिक, नेस वाडिया की ओर न्यू चिटोस एयरपोर्ट के कस्टम अधिकारियों का ध्यान खोजी कुत्तों ने दिलाया था, और तलाशी लिए जाने पर उनकी पतलून की जेब से लगभग 25 ग्राम चरस बरामद हुई थी।

यह भी पढ़ें- http://देश में ही नहीं बल्कि विदेश में भी जैकलीन फर्नांडीज़…
वाडिया समूह की कई जानी-मानी इकाइयों में बॉम्बे डाइंग, बॉम्बे बर्मन ट्रेडिंग, बिस्कुट निर्माता कंपनी ब्रिटानिया इंडस्ट्रीज़, बजट एयरलाइन गोएयर शामिल हैं, और इसके अलावा वह किंग्स इलेवन पंजाब (KXIP) के सह-मालिक भी हैं. कंपनी का कुल बाज़ार मूल्यांकन 13.1 अरब अमेरिकी डॉलर आंका गया है.

ness wadia arrested in japan

सप्पोरो में कोर्ट के एक अधिकारी ने फाइनेंशियल टाइम्स को बताया कि नेस वाडिया ने ड्रग्स की मिल्कियत कबूल की थी, लेकिन कहा था कि वह उनके निजी इस्तेमाल के लिए थी. जापान में नारकॉटिक्स (मादक द्रव्यों) से जुड़े कानून सख्त हैं, और आजकल उन्हें ज़्यादा सख्ती से लागू किया जा रहा है.

यह भी पढ़ें- http://‘बावली तरेड़’ पर सपना चौधरी के साथ दलेर मेहंदी ने लगाये…

20 मार्च को औपचारिक तौर पर आरोपी बनाए जाने से पहले नेस वाडिया ने कुछ वक्त हिरासत में बिताया था, और कोर्ट में सुनवाई से पहले भी उन्होंने अज्ञात समय हिरासत में बिताया.
सप्पोरो जिला अदालत ने नेस वाडिया को दो साल कैद की सज़ा सुनाई है, जिसे पांच साल के निलंबित कर दिया गया है.