5वीं बार पटनायक ने ली सीएम पद की शपथ, कभी चलाया था बुटीक भी

naveen patnaik

लगातार 5वीं बार पटनायक ने सीएम पद की शपथ ली है। लोकसभा चुनाव 2019 में देशभर में मोदी की सुनामी बही। बावजूद इसके ओडिशा के बीजू जनता दल का किला नहीं ढहा पाई। आज की सियासी तस्वीर में नवीन पटनायक की अपनी अलग पहचान हैं। ज़मीनी नेता हैं पटनायक। उन्हें विनम्र राजनेता के अलावा ऐसे शख्स के तौर पर जाना जाता है जो सबसे लंबे समय तक ओडिशा में मुख्यमंत्री के रूप में देखे गये हैं।

नायक रहे बीजू पटनायक

naveen-patnaik
naveen-patnaik

5वीं बार पटनायक नवीन पटनायक के पिता का ओडिशा की राजनीति में बहुत ऊंचा कद रहा। ओडिशा के पूर्व मुख्यमंत्री बीजू पटनायक के बेटे होने के नाते नवीन को राजनीति विरासत में मिली। बीजू पटनायक वायु सेना में पायलट थे और स्वतंत्रता संघर्ष में शामिल रहे । पहले उद्योगपति थे बाद में ओडिशा के मुख्यमंत्री बने।

यह भी पढ़ें: http://टीएमसी को लगेगा झटका, 3 विधायक आज थामेंगे बीजेपी का दामन

चार दशक तक राजनीति में रहे बीजू पटनायक

biju patnaik
biju patnaik

एक राजनेता के रूप में अपने चार दशक लंबे करियर में, उन्होंने ओडिशा जैसे पिछड़े राज्य को विकसित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। बीजू पटनायक दो बार मुख्यमंत्री चुने गए। हालांकि निमोनिया के कारण 81 वर्ष की उम्र में उनकी मृत्यु हो गई और इस तरह से ओडिशा के राज्य की राजनीति में बड़ा शून्य नज़र आने लगा। तब जनता दल में उनके सहयोगियों ने उनकी लोकप्रियता को पहचाना और ओडिशा की राजनीति में आई रिक्तता को भरने के लिए उनके बेटे को लाया गया और यहीं से नवीन पटनायक के राजनीति में आने की जमीन तैयार हुई.

‘साइकेडेल्ही’ था नवीन पटनायक के बुटीक का नाम

modi-naveen-patnaik-2
modi-naveen-patnaik-2

नवीन पटनायक ने दून स्कूल और सेंट स्टीफेंस कॉलेज से पढ़ाई के बाद कुछ दिनों तक दिल्ली के द ओबेराय के परिसर में ‘साइकेडेल्ही’ नामक एक बुटीक चलाया। वे संगीत के शौकीन हैं। पिता की मृत्यु के बाद राजनीति में आए। उस दौरान ओडिशा की जनता को उनके बारे में कोई खास जानकारी नहीं थी। ओडिशा में सिर्फ उनका इतना ही परिचय था कि वह बीजू पटनायक के बेटे हैं। . वह पहली बार असाका से लोकसभा के लिए चुने गए थे, जो 1997 में उनके पिता की मृत्यु के बाद खाली हो गया था।

http://शपथ ग्रहण समारोह के गवाह बनेंगे ये खास मेहमान भी

नवीन पटनायक सांसद चुने जाने के बाद अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में मंत्री बने। एक साल बाद उन्होंने जनता दल का नाम बदलकर बीजू जनता दल (BJD) कर दिया। विधानसभा चुनाव जीतने के बाद वह 2000 में मुख्यमंत्री बने। उन्नीस साल बाद उन्होंने पांचवीं बार ओडिशा के सीएम पद की शपथ ली है।