Sunday को ‘गेल तूफान’ से टकराएगी Mumbai Indians, अब तक जीत चुकी है 6 मैच

chris gayle

Sunday को ‘गेल तूफान’ से टकराने वाली है मुंबई इंडियन्स, जो लगातार 6 मैचों में जीत से बेहद मजबूत नज़र आ रही है। लेकिन इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में रविवार को होने वाले इंडियन प्रीमियर लीग (IPL2020) मैच में किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ उसे खुद पर इतराने यानी Narcissism से बचना होगा । क्रिस गेल की वापसी से उसके इस प्रतिद्वंद्वी में नया उत्साह जगा है। मुंबई एक जीत से प्लेऑफ के बेहद करीब पहुंच जाएगा, जबकि पंजाब एक और हार से दौड़ से बाहर हो सकता है।

Chart में Top पर काबिज है मुंबई

MUMBAI INDIAN VS RCB

मुंबई अपनी दमदार बल्लेबाजी और घातक गेंदबाजी से विरोधी टीमों की चुनौती से आसानी से पार पा रहा है। पिछले मैच में उसने कोलकाता नाइट राइडर्स (केकेआर) को आठ विकेट से करारी शिकस्त दी थी। Chart में Top पर काबिज मुंबई के शीर्ष क्रम के बल्लेबाज कप्तान रोहित शर्मा (251 रन) और उनके सलामी जोड़ीदार क्विंटन डिकॉक (269 रन) अच्छी लय में है, जबकि मध्यक्रम में सूर्यकुमार यादव (243 रन) और इशान किशन (186 रन) भी अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं।

बुमराह और ट्रेंट बोल्ट का जलवा लेकिन Sunday को ‘गेल तूफान’ से टक्कर

गेंदबाजी में जसप्रीत बुमराह और ट्रेंट बोल्ट अभी आईपीएल की सबसे सफल गेंदबाजी जोड़ी के रूप में सामने आये हैं। उन्होंने आठ मैचों में 12-12 विकेट लिये हैं। स्पिन विभाग में युवा राहुल चाहर ने प्रभावशाली गेंदबाजी की है। दूसरी तरफ किंग्स इलेवन पंजाब टूर्नामेंट में सर्वाधिक रन बनाने वाले दो बल्लेबाजों कप्तान केएल राहुल (387 रन) और मयंक अग्रवाल (337 रन) के बावजूद अंकतालिका में सबसे निचले स्थान पर है।

Sunday को ‘गेल तूफान’, जोश में है टीम

पंजाब की समस्या यह है जब उसके बल्लेबाज चलते हैं तो गेंदबाज नहीं चलते। यह अलग बात है कि वेस्टइंडीज के आक्रामक बल्लेबाज गेल की वापसी से टीम का उत्साह बढ़ा है। गेल ने अपने पहले मैच में शानदार प्रदर्शन करके 45 गेंदों पर 53 रन बनाये जिसमें पांच छक्के शामिल हैं। इससे पंजाब विराट कोहली की अगुवाई वाले रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर को हराने में सफल रहा था। ऐसे में गेल तथा बुमराह और बोल्ट के बीच द्वंद्व देखने लायक होगा।

पंजाब की परेशानी उसकी गेंदबाजी

राहुल और अग्रवाल इन दोनों तेज गेंदबाजों का प्रभाव कम करके गेल के लिये अच्छा मंच तैयार कर सकते हैं। पंजाब की परेशानी उसकी गेंदबाजी है। मोहम्मद शमी और रवि बिश्नोई को छोड़कर उसका कोई भी गेंदबाज प्रभाव नहीं छोड़ पाया है। उसकी टीम कई विकल्प आजमाने के बावजूद सही संतुलन भी स्थापित नहीं कर पायी है।