महामृत्युंजय स्तोत्र, मृत्यु के भय को मिटाने वाला है यह स्तोत्र, रोज़ सुबह इसका पाठ करें

महामृत्युंजय स्तोत्र मृत्युंजय पंचांग में प्रसिद्ध है। यह मृत्यु के भय को मिटाने वाला स्तोत्र है। इस स्तोत्र द्वारा प्रार्थना करते हुए भक्तके मनमें भगवानके प्रति दृढ़ विश्वास बन जाता है कि, उसने भगवान “रुद्र” का आश्रय ले लिया है । और यमराज भी उसका कुछ बिगाड़ नहीं पाएगा । यह स्तोत्र 16 पद्यों में वर्णित है। और अंतिम 8 पद्योंके अंतिम चरणोंमें “किं नो मृत्यु: करिष्यति” अर्थात मृत्यु मेरा क्या करेगी, यह अभय वाक्य जुड़ा हुआ है। मृत्युके भयसे मुक्तिके लिए श्री महामृत्युंजय स्तोत्रम् का नियमित पठन करें।

Listen Mrityunjaya Stotram : https://www.youtube.com/watch?v=vgu91Z4kXpk


महामृत्युंजय स्तोत्र मृत्यु के भय को मिटाता है, श्री महामृत्युंजय स्तॊत्रम्‌


*ॐ अस्य श्री महा मृत्युंजय स्तॊत्र ।**ॐ रुद्रं पशुपतिं स्थाणुं नीलकंठमुमापतिम्‌ । नमामि शिरसा दॆवं किं नॊ मृत्यु: करिष्यति ॥ १ ॥
*नीलकंठं कालमूर्तिं कालज्ञं कालनाशनम्‌ । नमामि शिरसा दॆवं किं नॊ मृत्यु: करिष्यति ॥ २ ॥
*नीलकंठं विरूपाक्षं निर्मलं निलयप्रदम्‌ । नमामि शिरसा दॆवं किं नॊ मृत्यु: करिष्यति ॥ ३ ॥
*वामदॆवं महादॆवं लॊकनाथं जगद्गुरम्‌ । नमामि शिरसा दॆवं किं नॊ मृत्यु: करिष्यति ॥ ४ ॥
*दॆवदॆवं जगन्नाथं दॆवॆशं वृषभध्वजम्‌ । नमामि शिरसा दॆवं किं नॊ मृत्यु: करिष्यति ॥ ५ ॥
*गंगादरं महादॆवं सर्पाभरणभूषितम्‌ । नमामि शिरसा दॆवं किं नॊ मृत्यु: करिष्यति ॥ ६ ॥
*त्र्यक्षं चतुर्भुजं शांतं जटामुकुटधारणम्‌ । नमामि शिरसा दॆवं किं नॊ मृत्यु: करिष्यति ॥ ७ ॥
*भस्मॊद्धूलितसर्वांगं नागाभरणभूषितम्‌ । नमामि शिरसा दॆवं किं नॊ मृत्यु: करिष्यति ॥ ८ ॥

यह भी पढ़ें: https://www.indiamoods.com/gupt-navratri-12-feb-start-ma-bleesings-doubled/

*अनंतमव्ययं शांतं अक्षमालाधरं हरम्‌ । नमामि शिरसा दॆवं किं नॊ मृत्यु: करिष्यति ॥ ९ ॥
*आनंदं परमं नित्यं कैवल्यपददायिनम्‌ । नमामि शिरसा दॆवं किं नॊ मृत्यु: करिष्यति ॥ १० ॥
*अर्धनारीश्वरं दॆवं पार्वतीप्राणनायकम्‌ । नमामि शिरसा दॆवं किं नॊ मृत्यु: करिष्यति ॥ ११ ॥
*प्रलयस्थितिकर्तारं आदिकर्तारमीश्वरम्‌ । नमामि शिरसा दॆवं किं नॊ मृत्यु: करिष्यति ॥ १२ ॥
*व्यॊमकॆशं विरूपाक्षं चंद्रार्द्ध कृतशॆखरम्‌ । नमामि शिरसा दॆवं किं नॊ मृत्यु: करिष्यति ॥ १३ ॥
*गंगाधरं शशिधरं शंकरं शूलपाणिनम्‌ । नमामि शिरसा दॆवं किं नॊ मृत्यु: करिष्यति ॥ १४ ॥

यह भी पढ़ें: https://www.indiamoods.com/tulsi-plant-vastu-beneficial-happiness-wealth/

*अनाथं परमानंदं कैवल्यपददायिनम्‌ । नमामि शिरसा दॆवं किं नॊ मृत्यु: करिष्यति ॥ १५ ॥
*स्वर्गापवर्ग दातारं सृष्टिस्थित्यांतकारिणम्‌ । नमामि शिरसा दॆवं किं नॊ मृत्यु: करिष्यति ॥ १६ ॥
*कल्पायुर्द्दॆहि मॆ पुण्यं यावदायुररॊगताम्‌ । नमामि शिरसा दॆवं किं नॊ मृत्यु: करिष्यति ॥ १७ ॥
*शिवॆशानां महादॆवं वामदॆवं सदाशिवम्‌ । नमामि शिरसा दॆवं किं नॊ मृत्यु: करिष्यति ॥ १८ ॥
*उत्पत्ति स्थितिसंहार कर्तारमीश्वरं गुरुम्‌ । नमामि शिरसा दॆवं किं नॊ मृत्यु: करिष्यति ॥ १९ ॥
*फलश्रुति*

shiv


*मार्कंडॆय कृतं स्तॊत्रं य: पठॆत्‌ शिवसन्निधौ । तस्य मृत्युभयं नास्ति न अग्निचॊरभयं क्वचित्‌ ॥ २० ॥
*शतावृतं प्रकर्तव्यं संकटॆ कष्टनाशनम्‌ । शुचिर्भूत्वा पठॆत्‌ स्तॊत्रं सर्वसिद्धिप्रदायकम्‌ ॥ २१ ॥
*मृत्युंजय महादॆव त्राहि मां शरणागतम्‌ । जन्ममृत्यु जरारॊगै: पीडितं कर्मबंधनै: ॥ २२ ॥
*तावकस्त्वद्गतप्राणस्त्व च्चित्तॊऽहं सदा मृड । इति विज्ञाप्य दॆवॆशं त्र्यंबकाख्यममं जपॆत्‌ ॥ २३ ॥
*नम: शिवाय सांबाय हरयॆ परमात्मनॆ । प्रणतक्लॆशनाशाय यॊगिनां पतयॆ नम: ॥ २४ ॥
*॥ इती श्री मार्कंडॆयपुराणॆ महा मृत्युंजय स्तॊत्रं संपूर्णम्‌ ॥