Mahashivratri पर हर मनोकामना पूर्ण होगी, पर्व पर राशि अनुसार करें पूजा

Mahashivratri का पर्व है आज। Mahashivratri के दिन दिल से अराधना करें और मनोकामनाओं को पूरा करेंगे शिव जी। बस जरूरत है दिल से शिव जी भक्ति की।

Mahashivratri पर राशियों के अनुसार करें मंत्र जाप

  • मेष राशि -ॐ नमः शिवाय ह्रींश् इस मंत्र का 108 बार जप करें। शहद, गु़ड़, गन्ने का रस, लाल पुष्प शिव जी के लिए चढ़ाएं।
  • वृष राशि – ॐ नमः शिवायश् मंत्र का जप करें और कच्चे दूध, दही, श्वेत पुष्प शिव जी को चढ़ाएं।
  • मिथुन राशि – ॐ नमो भगवते रूद्रायश् मंत्र का यथासंभव जप करें। हरे फलों का रस, मूंग, बेलपत्र शिव जी को चढाएं।
  • कर्क राशि – ॐ हौं जूं सःश् मंत्र का जितना संभव हो जप करें और शिवलिंग पर कच्चा दूध, मक्खन, मूंग, बेलपत्र आदि चढाएं।
  • सिंह राशि – ॐ त्र्यंबकं यजामहे सुगंधि पुष्टिवर्धनम, उर्वारूकमिव बन्ध्नान्मृत्योर्मुक्षीय मामृतात् का जप करें। ज्योतिर्लिंग पर शहद, गु़ड़, शुद्ध घी, लाल पुष्प आदि चढाएं।
  • कन्या राशि- ॐ नमो भगवते रूद्रायश् मंत्र का यथासंभव जप करें। हरे फलों का रस, बिल्वपत्र, मूंग, हरे व नीले पुष्प शिव जी को चढाएं।
  • तुला राशि- ॐ नमः शिवायश् का 108 बार जप करें और दूध, दही, घी, मक्खन, मिश्री शिव जी को चढ़ाए।
  • वृश्चिक राशि- ‘ह्रीं ॐ नमः शिवाय ह्रीं’ मंत्र का जप करें। शहद, शुद्ध घी, गु़ड़, बेलपत्र, लाल पुष्प शिवलिंग पर अर्पित करें।
  • धनु राशि- ॐ तत्पुरूषाय विद्महे महादेवाय धीमहि। तन्नो रूद्रः प्रचोदयात।। शुद्ध घी, शहद, मिश्री, बादाम, पीले पुष्प, पीले फल चढ़ाएं।
  • मकर राशि- ॐ नमः शिवायश् मंत्र का 5 माला जप करें। सरसों का तेल, तिल का तेल, कच्चा दूध, जामुन, नीले पुष्प से अभिषेक करें।
  • कुंभ राशि- ॐ नमः शिवायश् का जप करें। कच्चा दूध, सरसों का तेल, तिल का तेल, नीले पुष्प शिव जी के लिए चढाएं।
  • मीन राशि- ॐ तत्पुरूषाय विद्महे महादेवाय धीमहि। तन्नो रूद्र प्रचोदयात।। गन्ने का रस, शहद, बादाम, बेलपत्र, पीले पुष्प, पीले फल शिव जी के लिए चढाएं।
ravan-shiv-bhakti-ling-lanka
ravan-shiv-bhakti-ling-lanka

Mahashivratri का शुभ मुहूर्त

  • ज्योतिषाचार्य पं. नरेन्द्र कृष्ण शास्त्री ने बताया कि महाशिवरात्रि तिथि- 11 मार्च 2021 में रहेगी।
  • महानिशीथ काल पूजन – 11 मार्च रात 11 बजकर 44 मिनट से रात 12 बजकर 33 मिनट तक रहेगी।
  • निशीथ काल पूजा मुहूर्त – 11 मार्च देर रात 12 बजकर 06 मिनट से 12 बजकर 55 मिनट तक।
  • अवधि-48 मिनट
  • Mahashivratri पारण मुहूर्त – 12 मार्च सुबह 6 बजकर 36 मिनट से दोपहर 3 बजकर 4 मिनट तक।
  • चतुर्दशी तिथि शुरू – 11 मार्च को दोपहर 2 बजकर 39 मिनट से
  • चतुर्दशी तिथि समाप्त – 12 मार्च दोपहर 3 बजकर 3 मिनट तक रहेगी।

    Shiv Aarti : https://www.youtube.com/watch?v=At47S7TIUCI