कैसा होता Face Book वाला Love?, एक लवर का रीयल एक्सपीरियंस

कैसा होता Face Book वाला Love? प्यार हो जाता है। इसे ढूंढना नहीं पड़ता है। आप बेवजह Love नहीं खोजें। अन्यथा लोग आपसे दूर-दूर रहेंगे। कुछ विरले ही होते हैं जिनकी सांसों में प्यार रमता है। ऐसे लोगों की बाॅन्डिंग सालोंसाल स्ट्रांग ही रहती है।

डिवेलप हो गई प्यार की Strong Feeling

मैं प्यार-व्यार में कभी कैद नहीं हुआ। आजाद पंछी रहा हूं। काॅलेज में लड़की ने प्रपोज किया, तो मैं उसे मना नहीं कर पाया। उस समय मेरे में प्यार की स्टांग फीलिंग डिवेलप हो गईं थी। जब मेरी सांसों में प्यार धड़कने लगा, तक बाबू और मैं लविंग कपल के नाम से काॅलेज में फेमस हो गए।

टू वे प्यार था

अब दिन बीतता प्यार के साथ। दोपहर, शामें और रातें। सब एक सी। बाबू और मैं हर लम्हा टच में रहते। अब उसके फेसबुक से मुझे खीझ होनी शुरू हो गई थी। उसे किसी से शेयर करने की सोच भी नहीं सकता था। प्यार इतना गहरा जो हो गया था। यह टू वे प्यार था।

ये भी पढ़ें : https://www.indiamoods.com/relationships-also-ask-for-repair/

फेंड लिस्ट हाइड कर ली

पर आजकल मैं कुछ ज्यादा ही पोसेसिव हो गया हूं। गुस्सा आता है जब लड़के उसकी डीपी पर लाइक व कमेंट करते हैं। बातों में कहा कि तुम्हें लड़के फाॅलो करते हैं। फबी फ्रेंड में लड़कों की लाइन लंबी है। इसके बाद ही उसने फेंड लिस्ट हाइड कर ली। हाइड और गुस्सा आया। उसकी बीमारी देखकर इस टाॅपिक पर बात नहीं करी।

Comments से खून खौलता था

उसकी डीपी पर कोई दिल फेंक लुकिंग नाइस लिखता है, तो मेरा खून खौल जाता है। उसकी परछाई को भी शेयर नहीं कर सकता। आॅनलाइन दुनिया में उसके लिए लुकिंग नाइस जैसा कमेंट मुझे बर्दाश नहीं। मेरे बाबू सिर्फ मेरा है। गुस्सा अब मेरे हर रिएक्शन में दिखता है।

नए तरीके से प्रपोज करता हूं

बाबू से ढंग से बात नहीं करता। उसे बताया था कि हमारे प्यार में किसी तीसरे की कोई जगह नहीं होगी। भले ही वो दोस्त क्यों न हो। शकी नहीं हूं। सोच रहा हूं कि कल उसे नए तरीके से प्रपोज करूं। जिसमें पहली शर्त होगी नो मेल एंटी। आउटसाइडर में सारे काॅनटैैक्ट खत्म करना। मान गई तो बल्ले-बल्ले, वरना प्यार की प्यास में प्यार की तलाश जारी।