बिहार एनडीए की पहली लिस्ट, शाहनवाज़, गिरिराज की सीट पर जेडीयू और एलजेपी

shahnawaz_giriraj

लोकसभा चुनाव 2019 के लिये एनडीे ने सीटों की पहली लिस्ट जारी की, जिसमें शाहनवाज़, गिरिराज की सीट बदल गई है। कहा जा रहा है कि एक-दो दिन में उम्मीदवारों के नाम की भी घोषणा हो जायेगी। जदयू कार्यालय में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय, जदयू के वशिष्ठ नारायण सिंह और लोजपा के पशुपति कुमार पारस ने सीटों के नाम का ऐलान किया। एनडीए ने सीटों की संख्या पहले ही घोषित कर रखा था। इस मौके पर जदयू के राष्ट्रीय संगठन महासचिव आरसीपी सिंह भी मौजूद थे।

आपसी सहमति से तय हुए नाम

bihar nda

जदयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने कहा कि सीटों की संख्या पहले से ही तय थी। बिना किसी मतभेद के आपसी सहमति से सीटों का नाम तय हो गया. राज्य की सभी चालीस सीटों पर एनडीए के कार्यकर्ता जीत के लिए काम करेंगे। मोदी सरकार और बिहार की नीतीश कुमार के काम का लाभ सबको मिलेगा।

जदयू को मिली ये सीटें
बाल्मिकी नगर, सीतामढ़ी, झंझारपुर , सुपौल, किशनगंज, कटिहार, पूर्णिया, मधेपुरा, गोपालगंज, सिवान, भागलपुर, बांका, मुंगेर, नालंदा, काराकाट, जहानाबाद, गया

भाजपा की 17 सीटें
पश्चिमी चंपारण, पूर्वी चंपारण, शिवहर, मधुबनी, अररिया. दरभंगा, मुजफ्फरपुर, महाराजगंज, सारण, उजियारपुर, बेगुसराय, पटना साहिब, पाटलिपुत्र, आरा, बक्सर, सासाराम, औरंगाबाद

लोजपा की 6 सीटें

वैशाली, हाजीपुर, समस्तीपुर, खगड़िया, जमुई, नवादा

गिरिराज व शाहनवाज हुसैन की सीटें बदली

shahnawaz_giriraj

बिहार में गठबंधन फॉर्मूले के तहत जो 17 सीटें जनता दल यूनाइटेड को मिली हैं, उनमें भागलपुर व नवादा भी शामिल हैं। नवादा सीट से बीजेपी के सिटिंग सांसद गिरिराज सिंह हैं, लेकिन अब यह सीट एलजेपी के पास चली गई है। चर्चा है कि गिरिराज को बेगुसराय से टिकट मिल सकता है।

दूसरी तरफ पार्टी के मुस्लिम चेहरे और राष्ट्रीय प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन की भागलपुर सीट भी बीजेपी के पास नहीं रही. अब यह सीट जेडीयू को मिल गई है. ऐसे में शाहनवाज हुसैन को किस सीट से उतारा जाएगा, इसे लेकर भी गहमागहमी है. यहां तक कि शाहनवाज समर्थकों का गुस्सा भी सामने आने लगा है.

शाहनवाज हुसैन 2004 में हुए उपचुनाव में यहां से जीते थे, इसके बाद 2009 में भी वह यहां से सांसद बने. हालांकि, 2014 में वो महज 8 हजार वोट से हार गए. लेकिन शाहनवाज हुसैन हार के बाद भी भागलपुर का दौरा करते रहे. अब जबकि उनका टिकट यहां से न होने की खबर सामने आई तो बीजेपी कार्यकर्ताओं में मायूसी भी देखने को मिली.