सौरव गांगुली बने Livinguard AG के ब्रांड एंबेसडर, लाॅन्च होंगे गांगुली के Autograph वाले मास्क

Livinguard AG ने भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व-कप्तान और वर्तमान BCCI के अध्यक्ष, सौरव गांगुली के साथ भागीदारी की है। इस भागीदारी के तहत कंपनी ने मास्क एवं ग्लव्स के लिए ब्रांड एंबेसडर बनाया है। इस ब्रांड के मास्क तीन वेरिएंट्स में उपलब्ध हैं- स्ट्रीट, प्रो और अल्ट्रा। इनकी खासियत है कि इन्हें 6 महीने तक बार-बार इस्तेमाल किया जा सकता है। सौरव गांगुली लिमिटेड एडिशन मास्क को Livinguard तकनीक के साथ विकसित किया गया है। यू कहें कि ये जो 99.9% बैक्टीरिया व वायरस को नष्ट कर सकता है। इसे कोविड-19 महामारी के दौर में किया जा सकता है।

गांगुली को पसंद आया Livinguard का कान्सेप्ट

सौरव गांगुली कहते हैं, “लिविंगार्ड के साथ एक नई पारी की शुरुआत करते हुए मुझे काफी खुशी हो रही है। आजकल तो फेसमास्क और ग्लव्स हमारे रोजमर्रा के पहनावे का हिस्सा बन चुके हैं। लिविंगार्ड फेसमास्क और ग्लव्स वायरस की रोकथाम करने के साथ-साथ सुरक्षा भी प्रदान करते हैं। कोविड-19 के इस दौर में हमें खुद को बचाने के लिए सही मास्क और ग्लव्स पहनने की जरूरत है। हमें इस बात का भी ध्यान में रखना चाहिए कि इसका धरती पर क्या असर होगा। मेरे सिद्धांत पूरी तरह से लिविंगार्ड के दृष्टिकोण व उद्देश्यों से मेल खाते हैं। सच कहूं तो ऐसे ब्रांड के साथ जुड़ना मेरे लिए सम्मान की बात है, जो लोगों के साथ-साथ धरती की सुरक्षा और हिफाजत को सबसे ज्यादा अहमियत देता है।”

ये भी पढ़ें : https://www.indiamoods.com/the-loss-suffered-by-india-in-the-last-test-series-is-still-a-problem-for-this-test-captain-of-australia/

खासियतों वाला मास्क

लिविंगार्ड लोगों के साथ-साथ धरती की सुरक्षा और हिफाजत को सबसे ज्यादा अहमियत देता है। लिविंगार्ड तकनीक  99.9 % बैक्टीरिया एवं वायरस को नष्ट कर सकता है, जिसमें कोविड-19 का कारण बनने वाले SARS-CoV-2  वायरस भी शामिल हैं। इन्हें 6 महीनों की अवधि तक धोकर बार-बार इस्तेमाल किया जा सकता है, और इस तरह ये लगभग 210 सिंगल-यूज मास्क के बराबर हैं।

काफी अलग है Livinguard के मास्क

लिविंगार्ड लिमिटेड एडिशन मास्क मार्केट में उपलब्ध मास्क से काफी अलग है। वैज्ञानिक तरीके से उपचारित इस फैब्रिक में पॉजिटिव चार्ज होता है, और जब नेगेटिव चार्ज वाले रोगाणु इस फैब्रिक के संपर्क में आते हैं, तो वे स्थाई रूप से नष्ट हो जाते हैं। टाइटेनियम, सिल्वर, जिंक और कॉपर जैसे भारी धातुओं पर आधारित सॉल्यूशन के विपरीत हैं। इस नवीन तकनीक को त्वचा और फेफड़ों, दोनों के लिए सुरक्षित पाया गया है। लिविंगार्ड टेक्नोलॉजी रोगाणुओं को लगातार नष्ट करता है, जिससे उपयोगकर्ता और दूसरी सतहों पर रोगाणुओं के फैलने का जोखिम काफी हद तक कम हो जाता है। अगर हर दिन पहना जाए और हफ्ते में एक बार धोया जाए तो इस मास्को 6 महीने तक इस्तेमाल में लाया जा सकता है। इस तरह, लिविंगार्ड टेक्नोलॉजी से बने मास्क एक बार इस्तेमाल होने वाले 210 मास्क के बराबर हैं, जो बेहद असरदार तरीके से सुरक्षा प्रदान करते हैं।

कैसे खरीदें और क्या है कीमत

सौरव गांगुली के ऑटोग्राफ वाले लिमिटेड एडिशन मास्क को इस महीने के आखिर में लॉन्च किया जाएगा। sales.india@livinguard.com पर ई-मेल भेजकर इसे प्राप्त किया जा सकता है। येनाएका, फ्लिपकार्ट जैसे मशहूर ई-कॉमर्स प्लेटफार्मों पर 1490 रुपये की कीमत पर उपलब्ध होगा।