बीमारी को छुपाएं नहीं इलाज करवाएं, कोरोना काल में कोई रिस्क नहीं लें

listen-see-any-changes-symptoms-body-avoiding-can be dangerous

बीमारी दस्तक देकर नहीं आती। बीमारी शरीर में कहां बसेरा बनाएगी, इसका कुछ नहीं पता। ऐसे में आप हर पल सचेत रहें। किसी भी तरह के लक्षण को हल्के में नहीं लें। फिर चाहे बीमारी मानसिक हो या शारीरिक।

patient-and-doctor-hold-hands
patient-and-doctor-hold-hands

बीमार पड़ने पर खुद नहीं बनें डाॅक्टर

कोरोना की दूसरी लहर के बीच तरह-तरह के मामले सामने आ रहे हैं। पिछले दिनों कुछ मामलों में देखा गया कि परिवार के एक सदस्य से कई सदस्य संक्रमित हो गए। जब इसके पीछे के कारणों को जाना गया तो पता चला कि घर का कोई सदस्य पहले बीमार पड़ा था। उन्होंने इसे सामान्य वायरल समझकर इलाज कराया, लेकिन बाद में वह कोरोना निकला। साथ ही परिवार के दूसरे सदस्य भी संक्रमित हो गए। ऐसी परिस्थिति से बचना है तो बीमार पड़ने पर तत्काल डॉक्टर के पास जाकर इलाज करवाएं।

घातक हो सकती है लापरवाही

शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी डॉ. सुनील कुमार चौधरी कहते हैं कि अभी कोरोना की दूसरी लहर तो चल रही है। इस वजह से लोग संक्रमित भी हो रहे हैं। लापरवाही की वजह से भी लोग इसकी चपेट में आ रहे हैं। इससे बचने के लिए लोगों को सावधानी बरतनी होगी। बीमार पड़ने पर तत्काल इलाज करवाना होगा। नहीं तो परिवार के दूसरे लोगों में भी संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। परिवार के लोगों को बचाने के लिए बीमार पड़ने पर तत्काल इलाज करवाएं।

यह भी पढ़ें: https://www.indiamoods.com/drinking-hot-water-again-and-again-in-summer-can-worsen-inner-health/

बीमार पड़ने पर खुद डॉक्टर नहीं बनें

डॉ. चौधरी कहते हैं कि इस तरह के ज्यादातर मामले खुद के डॉक्टर बन जाने के कारण होता है। ऐसा बिल्कुल नहीं करें। कभी भी बीमार पड़ने पर खुद या फिर मेडिकल दुकानदार के बताए दवा खाने से बचें। अभी कोरोना काल चल रहा है। इस समय में ऐसा रिस्क नहीं लें। यह आपके साथ परिवार के लिए भारी पड़ सकता है। बीमार पड़ने पर तत्काल डॉक्टर को दिखाएं। उनके बताए दवा का सेवन करें। अगर कोरोना के लक्षण दिखे, मसलन- सर्दी, खांसी, बुखार, गले में खरास, बदन में दर्द, स्वाद नहीं आना आदि हो तो कोरोना की जांच करा लें।

corona

बीमारी विकराल रूप लें पहले हो जाएं सजग, घर में हो जाएं आइसोलेट

डॉ. चौधरी कहते हैं कि कोरोना को हमलोग सतर्कता से ही कोरोना को मात दे सकते हैं। इसलिए अगर आप बीमार पड़ें तो सबसे पहले आइसोलेट हो जाएं। घर के सदस्यों से दूरी बनाकर रहें। ऐसे कमरे का चयन करें, जिसमें शौचालय की व्यवस्था हो। साथ ही हवादार भी हो। कमरे की सारी खिड़कियों और वेंटिलेशन को खोलकर रखें। अपने इस्तेमाल की वस्तुओं को अलग कर लें। ध्यान रखें कि उसका इस्तेमाल घर के दूसरे सदस्य नहीं करे।

यह भी पढ़ें: https://www.indiamoods.com/why-are-covid-patients-having-a-heart-attack-infection-is-becoming-deadly-know-what-the-oxford-journal-study-says/


कोरोना की गाइडलाइन का पालन करें

डॉ. चौधरी कहते हैं कि अभी के समय में जो सबसे महत्वपूर्ण है कि कोरोना की गाइडलाइन का पालन करना। घर से बाहर निकलते वक्त मास्क पहनें। सामाजिक दूरी का पालन करें। भीड़भाड़ से बचें। दो गज की दूरी को मेंटेन करें। घर में भी बात करते वक्त मास्क लगाएं। दो गज की दूरी बनाएं रखें। घर से बाहर बहुत जरूरी पड़ने पर ही निकलें। कोरोना की गाइडलाइन का पालन करने का सबसे बेहतर उपाय यही है। घर से जो जितना कम निकलेगा, उतना बेहतर तरीके से वह कोरोना की गाइडलाइन का पालन करेगा।

Self-medication : https://docmode.org/self-medication-a-major-concern-in-time-of-pandemics/