कौन हैं प्रमोद सांवत, जिन्हें मिली गोवा की कमान

pramod sawant

गोवा की कमान भाजपा के प्रमोद सावंत को सौंप दी गयी है। सोमवार की देर रात सावंत ने गोवा के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। 46 वर्षीय सावंत ने मनोहर पर्रिकर का स्थान लिया है । गोवा की राज्यपाल मृदुला सिन्हा ने यहां देर रात लगभग दो बजे राजभवन में 46 वर्षीय सावंत को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। सावंत के अलावा पर्रिकर के नेतृत्व वाली कैबिनेट का हिस्सा रहे 11 विधायकों ने भी मंत्रियों के रूप में शपथ ली। सावंत गोवा विधानसभा के अध्यक्ष थे। वंत ने कहा कि उनकी पार्टी भाजपा ने उन्हें एक बड़ी जिम्मेदारी दी है।

आयुर्वेद के डॉक्टर भी हैं प्रमोद सावंत

pramod sawant
डॉ. प्रमोद सावंत (45) का जन्म 24 अप्रैल, 1973 को हुआ। सैंकलिम विधानसभा क्षेत्र से चुनकर आए डॉ. प्रमोद सावंत का पूरा नाम डॉ. प्रमोद पांडुरंग सावंत है। उनकी मां पद्मिनी सावंत और पिता पांडुरंग सावंत हैं। प्रमोद सावंत ने आयुर्वेदिक चिकित्सा में महाराष्ट्र के कोल्हापुर की गंगा एजुकेशन सोसायटी से ग्रेजुएशन किया था। इसके बाद उन्होंने सोशल वर्क में पोस्ट ग्रेजुएशन पुणे की तिलक महाराष्ट्र यूनिवर्सिटी से किया। प्रमोद सावंत किसान और आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति के प्रेक्टिशनर हैं।

पत्नी हैं टीचर

प्रमोद सावंत की पत्नी सुलक्षणा केमिस्ट्री की टीचर हैं। वह बीकोलिम के श्री शांतादुर्गा हायर सेकेंडरी स्कूल में पढ़ाती हैं। इसके साथ ही सुलक्षणा सावंत भाजपा नेता भी हैं।  वह भाजपा महिला मोर्चा की गोवा इकाई की अध्यक्ष हैं।

गोवा के सियासी समीकरण

parikar with sawant

सावंत भाजपा के उन विधायकों में से हैं जो दो साल पहले हुए विधानसभा चुनाव में अपने-अपने निर्वाचन क्षेत्रों से दोबारा विजयी हुए थे। इस चुनाव में पार्टी को केवल 13 सीटें मिलीं, जबकि 2012 में इसने 21 सीटों पर जीत दर्ज की थी। पर्रिकर के प्रयासों से 2017 में भाजपा नीत गठबंधन सरकार बनी जिसमें गोवा फॉरवर्ड पार्टी, महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी और निर्दलीय विधायक शामिल थे।

परिकर के करीबी रहे हैं सावंत

2017 के विधानसभा चुनाव में डॉ. प्रमोद सावंत ने 10,058 वोट हासिल करके कांग्रेस के धर्मेश प्रभुदास सगलानी को मात दी थी। उन्होंने सगलानी से 32 फीसद अधिक वोट हासिल किए थे। 2012 के चुनाव में प्रमोद सावंत ने कांग्रेस के प्रताप गौंस को हराया था। तब सावंत को 14,255 वोट मिले थे। माना जाता है कि वह पर्रिकर के करीबी थे। बीते साल सितंबर में कांग्रेस ने प्रमोद सावंत को विधानसभा अध्यक्ष के पद से हटाने का नोटिस दिया था।