Women’s day Spl: 19 वर्ष से बदलाव की इबारत लिखती ‘देसी गर्ल’ रंजीता कौशिक

रंजीता कौशिक

समाज में बदलाव की बयार शुरू करने वाली सामाजिक कार्यकर्ता, ‘देसी गर्ल’ रंजीता कौशिक को अक्सर गरीब व असहायों के लिये अनेक मंचों से आवाज़ उठाते व उनके हक की लड़ाई लड़ते देखा गया है। बहुआयामी व्यक्त्वि की धनी कुमारी रंजीता कौशिक समाज में बदलाव की इबारत लिखती आ रही है।

ओ.पी. शर्मा

सवेरे घर के बाहर लोग दस्तक देने लगते हैं। ये वो लोग हैं जो असहाय है जो मदद लेने के लिए आते हैं। ये किसी एक गांव के ना होकर पानीपत के आस-पास के दर्जनों गांव के है। बुजुर्गों को अपने खर्च पर गांव से शहर में पैंशन बनवाने के लिए व उनको अस्पताल में बीमारियों का इलाज करवाने के लिए निजी वाहनों से ले जाती हैं। खुला दरबार लगा कर लोगों की समस्या सुनना व उनका प्रशासन से मिलकर समाधान निकालना। 19 सालों से समाज को जगाने व असहाय लोगों की एक संस्था के माध्यम से मदद करती आ रही हैं। रंजीता ‘फैला उजियारा फाउंडेशन’ की प्रदेशाध्यक्षा भी हैं।

यह भी पढ़ें: Women’s day Spl: बुलंद हौसलों की मालकिन ‘कल्पना सरोज’ की कहानी

बेटियों से है जहां

Ranjeeta kaushik

वो कहती है कि हमें बेटियों को पढ़ाने व बेटियों को बचाने के लिए आगे आना चाहिए व इसकी शुरूआत अपने आस-पास से ही करनी चाहिए। बेटियां की परवरिस से ही देश में शिक्षा की क्रांति के दरवाजे खुलेंगे। बेटियां भगवान का वरदान है मूर्ख हैं वो लोग जो बेटियों को बेटों से कम तोलते हैं। बेटियां धरती का गौरव हैं उनसे सारा जहान है। सामाजिक कार्यकर्ता को राज्य सरकार ने स्टेट अवार्ड से व जिला प्रशासन ने अनेकों बार सम्मानित किया है। वो कहती हैं कि समाज को सरल बनाने के लिए संघर्ष व ईमानदारी से कार्य करने की आवश्यकता है। पहल हमें अपने घर से ही करनी चाहिये।

इन मुद्दों पर किया कार्य

ranjeeta

रंजीता नशा मुक्ति,पल्स पोलियो, पोलिथीन मुक्त , स्वच्छता अभियान व भ्रूण हत्या रोकने के लिए जागरूकता अभियान चलाती हैं।  400 से ज्यादा गरीब छात्रों को शिक्षित करवाने के लिए सरकारी स्कूलों में अपने पैसे से दाखिले करवाने, गांवों में 100 शौचालयों की व्यवस्था करने का काम किया।  3,600 बुजुर्गों व बेसहारा महिलाओं की पेंशन बनवाने में अहम भूमिका भी निभाई है। अनेक स्थानों पर पीने के लिए पानी की व्यवस्था, खेलों, कृषि क्षेत्र के लिये काम करती हैं। वहीं 400 से अधिक गरीबों को गैस के कनेक्शन दिलवाए व 200 किसानों को कृषि विभाग से कृषि उपकरण दिलवाये।

इनके नाम है अनेक उपलब्धियां

ranjeeta kaushik 2

सामाजिक कार्यकर्ता ने समाज को जागरूक करने के लिए कई बार भ्रूण हत्या पर रैली निकाली, 500 से ज्यादा गरीब बच्चों को सरकारी स्कूल में दाखिला कराया, नशा मुक्ति पर रैली निकाल क र लोगों को जागरूक करने का कार्य किया। 300 गरीब कन्याओं की शादियंा कराई, दो दर्जन से ज्यादा विधवा व गरीब परिवारों को प्ॅलाट दिलवाये, गावं में सिलाई सैंटर खुलवायें के लिए अनेक प्रयास किये। अनेक गांवों में पानी के समबर्सिबल लगवाये, कई गावों में अस्पताल की मुरम्मत का कार्य करवाया, जरूरत मंदों को गैर सरकारी व सरकारी विभागों में रोज़गार उपलब्ध कराया,हर वर्ष गरीब व असहायों को सर्दी के मौसम में गर्म वस्त्रों की व्यवस्था की।

कई बार मिला सम्मान

Ranjita kaushik

सभी की चहेती मधुर भाषी, आत्मविश्वास से भरपूर सामाजिक कार्यकर्ता को जिला प्रशासन व विभिन्न सामाजिक संगठनों द्वारा कई बार विशेष सम्मान दिया गया है।

लंबी है अवॉर्ड की  लिस्ट

26 जनवरी 2005 को वन मंत्री किरण चौधरी ने सम्पूर्ण स्वच्छता के लिए सम्मानित किया।
-2006 में वित्त मंत्री वीरेन्द्र सिंह डुमरखां ने सामाजिक कार्यो में उत्कृष्ट भूमिका के लिए सम्मानित।
-2006 में बाल कल्याण परिषद उपाध्यक्ष श्री मती आशा हुड्डा ने गरीब कन्याओं की शादियां कराने पर खास भूमिका निभाने पर सम्मानित किया।
-राज्य स्तरीय समारोह पंचकूला के इंद्रधनुष सभागार में 2007 में मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ने समाज कल्याण में उत्कृष्ट कार्यों के लिए सम्मानित किया।
-2007 में अटारी समझौता एक्सप्रेस धमाके में प्रशंसनीय कार्य के लिए पानीपत प्रशासन ने सम्मानित किया ।
-समाज कल्याण बोर्ड अध्यक्ष रेणु पौसवाल ने 2007 में जागरुक महिला प्रोत्साहन एवं सेवा सम्मान प्रदान किया इसमें भारतीय महिला कल्याण समिति, सदभावना महिला समिति, सोमभाई मेमौरियल ट्रस्ट, लायंस क्लब ग्रेटर पानीपत, नारी कल्याण समिति, महिला आर्य समाज के द्वारा सम्मानित किया गया।

 मिले हैं ये सम्मान भी

-2008 में आर्य संस्थान द्वारा राष्ट्रीय सेवा योजना से सम्मानित किया गया।
-2008 में दिल्ली में समरसता मंच कि और से नारी शक्ति अवार्ड व गोल्ड मैडल के साथ सम्मानित किया गया।
-2008-में रैड क्रास सोसायटी पानीपत ने सामाजिक कार्यो में सराहनीय योगदान के लिए सम्मानित किया।
-2009 में स्वतंत्र दिवस पर सामाजिक कार्यो में बेहतरीन योगदान के लिए सम्मानित किया ।
-2010 में परिवहन पूर्व परिवहन मंत्री ने भारत निर्माण कार्यक्रम में सामाजिक कार्य के लिए विशेष रुप से सम्मानित किया गया।
-2011 में समरसता मंच ने नेपाल में अन्तर्राष्ट्रीय अवार्ड के लिए सम्मानित करने के लिए निमंत्रण मिला।
-वर्ष 2012 में आर्य सीनियर सेकैंडरी स्कूल पानीपत द्वारा सम्मानित किया गया।
-वर्ष 2013 में विकलांगता दिवस पर राज्य स्तरीय समारोह में संस्था के अध्यक्ष द्वारा सम्मानित किया गया।
– वर्ष 2013 में स्वतंत्रता दिवस पर जिला पानीपत प्रशासन की और से सम्मानित किया गया,
-वर्ष 2014 में श्याम बाबा मंडी समालखा की और से 16 गरीब कन्याओं का विवाह कराने पर सम्मानित किया गया।
-वर्ष 2015 में आर्य सीनियर सैकेंडरी स्कूल में आयोजित कार्यक्रम में बतौर वक्ता सम्मानित किया इन्होंने बेटी बचाओं बेटी पढ़ाओं पर स्कूल को विद्यार्थियों को संबोधित किया था।

रंजीता कौशिक
वर्ष 2015 में 10 व 2016 में 8 और 2017 में 11 व 2018 में 9 गरीब कन्याओं की व 2019 में 19 शादियां श्याम बाबा मंडी ,समालखा की ओर से आयोजित समारोह में करवाई जिसमें मंडल ने उन्हें लगातार 6 बार महिला सशक्तिकरण अवार्ड से सम्मानित किया।

फाउंडेशन की प्रदेशाध्यक्ष का मानना है कि युवाओं को अपने अपने क्षेत्र में मेहनत करनी चाहिए। लक्ष्य निर्धारित करके आगे बढऩा चाहिए। इसके लिए संघर्ष करना आवश्यक है। वो कहती हैं कि मौजूद रहे, सक्रिय रहें, प्रभावी रहें। अल्प समय से समाज में सुधार करने व लोगों को जगाने में जुटी रंजीता कहती हैं कि हम जब तक आगे नहीं आयेंगे समाज आगे नहीं बढ़ सकता है।