Jammu and Kashmir delimitation issue- जम्मू को 6, कश्मीर को एक अतिरिक्त सीट का प्रस्ताव

Jammu_Kashmir
Jammu_Kashmir

Jammu and Kashmir delimitation issue-केंद्रशासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर के लिए विधानसभा क्षेत्रों की सीमा को नये सिरे से निर्धारित करने के मकसद से गठित परिसीमन आयोग द्वारा अपने ‘पेपर-1′ में जम्मू क्षेत्र में 6 अतिरिक्त सीटें और कश्मीर घाटी में एक सीट का प्रस्ताव रखे जाने की जानकारी मिली है। इसे लेकर आयोग के 5 सहयोगी सदस्यों से सोमवार को विचार-विमर्श किया गया।

एसटी के लिए 9 सीटों और एससी के लिए 7 सीटों का प्रस्ताव

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जम्मू-कश्मीर में अनुसूचित जनजातियों (एसटी) के लिए 9 सीटों और अनुसूचित जाति (एससी) के लिए 7 सीटों का प्रस्ताव रखा गया है। जम्मू-कश्मीर में ऐसा पहली बार है, जब एसटी के लिए सीटों का प्रस्ताव रखा गया है। आयोग की बैठक में उसके सहयोगी सदस्यों-जम्मू-कश्मीर से 5 लोकसभा सदस्यों- ने भाग लिया। उनसे इस महीने के अंत में प्रस्ताव पर अपनी प्रतिक्रिया देने को कहा गया है। केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला बैठक में मौजूद नेताओं में शामिल थे। परिसीमन आयोग की अध्यक्षता सुप्रीम कोर्ट की पूर्व जस्टिस रंजना प्रकाश देसाई कर रही हैं। मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुशील चंद्रा पैनल के पदेन सदस्य हैं।

नेकां का मसौदा रिपोर्ट पर हस्ताक्षर से इंकार

नेशनल कॉन्फ्रेंस ने सोमवार को कहा कि वह जम्मू-कश्मीर को लेकर गठित परिसीमन आयोग की मौजूदा मसौदा रिपोर्ट पर हस्ताक्षर नहीं करेगी। पार्टी के एक प्रवक्ता ने बैठक के कुछ घंटों बाद प्रधानमंत्री कार्यालय में केंद्रीय राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह के मीडिया में दिये उस बयान को ‘दुर्भावनापूर्ण’ करार दिया जिसमें सिंह ने कहा था कि आयोग द्वारा तैयार की गई रिपोर्ट से नेशनल कॉन्फ्रेंस ‘संतुष्ट’ है। पार्टी ने ट्विटर पर कहा, ‘दुर्भावनापूर्ण इरादे से तथ्यों को गलत तरीके से और तोड़-मरोड़कर पेश किया जा रहा। बेहद भ्रामक बयान। हमने परिसीमन आयोग की मसौदा रिपोर्ट पर असंतोष जताया है, जिसमें सीट बंटवारे की प्रक्रिया पक्षपातपूर्ण है। पार्टी इस रिपोर्ट पर हस्ताक्षर नहीं करेगी।’

Jammu and Kashmir delimitation issue

उधर पीडीपी, जम्मू कश्मीर अपनी पार्टी और पीपुल्स कॉन्फ्रेंस (पीसी), जिसे भाजपा के प्रति मित्रवत माना जाता है, ने भी आयोग की मसौदा सिफारिशों का कड़ा विरोध किया, जो जम्मू कश्मीर के चुनावी नक्शे को बदल देगी। कश्मीर संभाग में फिलहाल 46 और जम्मू में 37 सीट हैं।