पहली बार सामने आए हिममानव होने के सबूत, सेना ने शेयर की तस्वीरें

yeti foot print

हिममानव होने के सुबूत भले ही अब तक न मिले हों लेकिन इनके बारे में कई कथाएं और बातें हमने सुनी हैं। कई बार लोगों द्वारा दुनियाभर में हिममानव ‘येती’ को देखे जाने की घटनाएं सामने आती रही हैं। ये मान्यता सदियों से चली आ रही है कि हिममानव हिमालय में बनी गुफाओं में आज भी रहते हैं। हालांकि, अभी तक इसकी मौजूदगी को लेकर कोई ठोस सबूत सामने नहीं आया था। पहली बार भारतीय सेना ने हिममानव ‘येती’ की मौजूदगी को लेकर बड़ा दावा किया है।

येति की मौजूदगी का अनुमान लगा रही भारतीय सेना ने माउंट मकालू से कुछ और तस्वीरें साझा की हैं। इसमें रहस्यमय पैरों के निशान देखे गए थे। बता दें कि ऐसा दावा किया गया था कि ये निशान येती के हो सकते हैं।

भारतीय सेना ने पहली बार हिममानव की मौजूदगी को लेकर सबूत पेश किया है। दरअसल, सेना को हिमालय में हिममानव ‘येति’ के पैरों निशान मिले हैं, जिसे उन्होंने ट्विटर पर शेयर किया है। तस्वीरों में बर्फ पर पैरों के बड़े-बड़े निशान दिखाई दे रहे हैं। माना जा रहा है कि ये निशान हिममानव ‘येती’ के पैरों के ही हैं। भारतीय सेना ने कुल तीन तस्वीरें शेयर की हैं।

सेना ने ट्वीट में कहा, ‘पहली बार भारतीय सेना पर्वतारोहण अभियान दल ने 09 अप्रैल, 2019 को मकालू बेस कैंप के करीब 32×15 इंच वाले ‘येति’ के रहस्यमयी पैरों के निशान देखे हैं। इस मायावी हिममानव को इससे पहले केवल मकालू-बरुन नेशनल पार्क में भी देखा गया।

यह भी पढ़ें- http://लोकसभा चुनाव का सुरूर, शिरिष कुंदेर का तंज