Himachal’s first flower market-प्रदेश के रंग-बिरंगे फूलों से महक रही परवाणु मंडी

Himachal's first flower market
Himachal's first flower market

Himachal’s first flower market-फूल मंडी परवाणु में हिमाचल प्रदेश के किसानों का फूल महकने लगा है (The smell of blooming flowers)। इससे जहां किसान खुश हैं तो वहीं व्यापारियों के चेहरे भी खिले हुए हैं। 15 मई से शुरू हुये विभिन्न फूलों के व्यापार ने अब धीरे-धीरे तेज़ी पकड़ना शुरू कर दिया है।

पहुंच रहे कालका-चंडीगढ़ के व्यापारी

Himachal's first flower market
Himachal’s first flower market

कालका और पिंजौर समेत चंडीगढ़ के व्यापारी भी इस फूल मंडी में खरीददारी के लिये जा रहे हैं। दूसरी ओर प्रदेश के फूल उत्पादकों को इस बार चिलचिलाती गर्मी में बिक्री के लिए बाहरी राज्यों में नहीं जाना पड़ रहा है। फिलहाल मंडी में गेंदा, कार्निश और ग्लेडियेला जैसे फूल पहुंच रहे हैं।

क्या कहते हैं कारोबारी

Himachal's first flower market
Himachal’s first flower market

देव शिरगुल फ्लावर कंपनी के व्यापारी रूपेन्द्र सिंह के मुताबिक मंडी नयी है लेकिन जिस तरह से किसानों में इसके शुरू होने से उत्साह है उससे कारोबार में तेज़ी की उम्मीद है। सिंह के मुताबिक मंडी में कारनेशन और परसेंटियम (prezentium flower) के सैकड़ों बॉक्स एक दिन में उतर रहे हैं। उन्होंने कहा कि फूल मंडी परवाणु का प्रदेश के सैकड़ों किसानों को लाभ मिलेगा, किसानों का ट्रांसपोर्ट खर्चा बचेगा, वहीं दिल्ली में फूलों पर लगने वाले दस फीसदी कमीशन से भी छुटकारा मिलेगा।

क्या कहते हैं प्रभारी

Himachal's first flower market
Himachal’s first flower market

फूल मंडी के प्रभारी राजेश शड़ैक का कहना है कि मंडी में अभी तक निर्माण कार्य भी जारी है, व्यापार शुरुआती चरण में है लिहाज़ा कोल्ड स्टोरेज जैसी सुविधाओं के लिये अभी थोड़ा इंतज़ार करना होगा। मंडी के व्यापारियों द्वारा दिये गये मांगपत्र पर काम किया जा रहा है। जल्दी ही यहां और अधिक सुविधाएं मुहैया करायी जाएंगी।
व्यापारियों ने फूल मंडी के खिलाफ किये जा रहे दुष्प्रचार परभी नाराज़गी जतायी।

नेगेटिव न्यूज़ न फैलायें

Himachal's first flower market
Himachal’s first flower market

मंडी में कारोबार कर रहे प्रदीप हाब्बी ने मीडिया में मंडी के खिलाफ प्रकाशित नेगेटिव न्यूज़ पर आपत्ति जताते हुये कहा कि यह किसानों और व्यापारियों को निराश करने वाला है। उनका कहना है कि कारोबार शुरू होने से पहले ही सुविधाओं की कमी का रोना रोकर मीडिया में नेगेटिव प्रचार किया जा रहा है जिसकी वजह से किसान निराशा हो रहे हैं। उन्होंने हाल ही फैलायी गयी मंडी में शौचालय और पानी की कमी की नेगेटिव न्यूज़ को भी गलत बताया।