Hamirpur gets reins in state : हमीरपुर को फिर मिली सरदारी, धूमल के बाद दूसरे सीएम होंगे ‘सुक्खू’, कांगड़ा में भी खुशी

Himachal Pradesh Colleges
Himachal Pradesh Colleges

Hamirpur gets reins in state: रविवार को पहाड़ी सूबे हिमाचल को नया सीएम मिल जाएगा। खास बात यह भी है कि इस बार सूबे की सरदारी फिर से हमीरपुर को मिली है। दो दिनों से जारी गहमागहमी और हंगामे के बाद आखिरकार शनिवार शाम को सुखविंदर सिंह सुक्खू के नाम पर मुहर लगी और इसके साथ ही प्रदेश के इतिहास में हमीरपुर का नाम फिर रोशन हो गया। पूर्व सीएम प्रेम कुमार धूमल के बाद सुखविंदर सिंह सुक्खू जिले से सीएम बनने वाले दूसरे नेता हैं। सरकार भाजपा की रही हो या कांग्रेस की हमीरपुर जिले की खास बात यह है कि यहां से सीएम के दावेदार 1998 से लगातार रहे हैं। 5 विधानसभा सीटों वाला यह जिला संसदीय क्षेत्र भी है तो इस लिहाज से जिले की अहमियत और बढ़ जाती है क्योंकि इसी क्षेत्र में आने वाले ऊना ( हरोली सीट ) से प्रदेश के डिप्टी सीएम मुकेश अग्निहोत्री भी आते हैं।
बिलासपुर जिला भी इसी संसदीय क्षेत्र में आता है।

Hamirpur gets reins in state : चौथी बार जीते हैं सुक्खू

सुखविंदर सिंह सुक्खू चौथी बार जीतकर विधानसभा पहुंचे हैं। और उनके सीएम बनने से हमीरपुर, ऊना, बिलासपुर ही नहीं बल्कि कांगड़ा में भी खुशी की लहर है। हमीरपुर से धूमल सीएम ही नहीं सांसद भी रहे हैं। उनके बेटे और केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर भी यहां से सांसद हैं। प्रदेश को इस जिले ने कई मंत्री दिये हैं। इनमें भाजपा के आईडी धीमान और ठाकुर जगदेव के अलावा कांग्रेस के नारायण चंद पराशर शामिल हैं। पराशर भी नादौन से ही विधायक रहे हैं और अब इसी सीट से सुक्खू जीतकर सीएम की ताज पहन रहे हैं।


Hamirpur gets reins in state :दिन भर टीवी से चिपके रहे लोग


सुखविन्द्र सिंह सुक्‍खू के सीएम बनने की घोषणा से पहले कांगड़ा के लोगों में बेचैनी दिखी। घोषणा तक लोग धर्मशाला और पालमपुर तथा नूरपुर समेत अन्य बाज़ारों में टीवी से चिपके रहे । प्रतिभा सिंह के पक्ष में शिमला में हो रही समर्थकों की नारेबाज़ी पर यहां के लोगों ने कड़ा एतराज जताया। लोगों का कहना है कि जब विधायक दल ने हाईकमान को विधायक दल का नेता चुनने का प्रस्‍ताव कर दिया था तो ऐसे में हाई कमान के खिलाफ इस तरह का आचरण करना सही नहीं था । हाईकमान द्धारा अपने फैसले पर अडिग रहने का कांगड़ा के कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने स्‍वागत किया।
बता दें कि कांगड़ा जिले में सबसे अधिक 15 विधायकों की सीटें हैं। लोगों ने कांग्रेस को 15 में से 10 विधायक दिए हैं और इस जिले से जिस पार्टी को भी अधिक सीटें मिलती है उसी पार्टी की सरकार बनती है, एक वार फिर सिद्ध हो गया है ।