यूपी के बुंदेलखंड में महिलाओं के खिलाफ हिंसा रोकेगा गुलाबी गैंग का ‘झपट्टामार’ दल

suman singh chauhan Gulabi gang
file

गुलाबी गैंग का ‘झपट्टामार’ दल अब महिलाओं के खिलाफ हो रही हिंसा की घटनाओं को रोकेगा। दरअसल तीन धड़ों में बंट चुका बुंदेलखंड़ का महिला संगठन ‘गुलाबी गैंग’ एक बार फिर सक्रिय होने की कोशिश कर रहा है। सुमन सिंह चौहान की अगुआई वाले धड़े ने महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ हो रही हिंसा को रोकने के लिए महोबा जिले में 60 महिलाओं का एक ‘झपट्टामार’ दल गठित किया है, जो घरेलू या बाहरी हिंसा करने वालों को पकड़ कर पुलिस के हवाले करेगा।

घरेलू या बाहरी हिंसा रोकने की कोशिश

गुलाबी महिला उत्थान समिति (रजिस्टर्ड) की मुखिया सुमन सिंह चौहान ने रविवार को को बताया कि उनकी अगुआई वाले गुलाबी गैंग ने महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ हो रही घरेलू या बाहरी हिंसा रोकने के लिए एक 60 सदस्यीय ‘झपट्टामार’ दल गठित किया है। उन्होंने कहा कि यह झपट्टामार दल स्कूल, कॉलेजों, मंदिर, हाट-बाजार या घर-आंगन में महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ हो रही हिंसा को रोकेगा और हिंसा करने वालों को पकड़ कर पुलिस के हवाले कर कानूनी कार्रवाई करवाएगा।

गुलाबी गैंग का ‘झपट्टामार’ दल, 20 महिलाओं का होगा एक जत्था

gulabi gang

इस मामले में सुमन चौहान ने कहा कि 60 महिलाओं के ग्रुप में से 20 महिलाएं (10-10) दो तहसीलों चरखारी व कुलपहाड़ में तैनात की गई हैं और 20 महिलाओं का जत्था जिला मुख्यालय में रहेगा, जबकि 20 महिलाओं को ग्रामीण क्षेत्र में तैनात किया गया है।’ गौरतलब है कि एक दशक पूर्व बुंदेलखंड़ का महिला संगठन ‘गुलाबी गैंग’ देश-विदेश में अपनी आक्रामक कार्य शैली के लिए चर्चित रहा।

यह भी पढ़ें: दूसरी बार मां बनी एक्ट्रेस करीना कपूर खान, ब्रीच कैंडी अस्पताल में बेटे को दिया जन्म

गुलाबी गैंग का ‘झपट्टामार’ दल लाठी भांजने में है माहिर

इस संगठन से प्रभावित होकर फ़िल्म निर्माता अभिनव सिन्हा ने ‘गुलाब गैंग‘ नामक फ़िल्म बनाई थी। लेकिन, यह संगठन फिलहाल तीन धड़ों संपत पाल (बांदा), सुमन सिंह चौहान (महोबा) और कानपुर की आशा निगम में बंटकर निष्क्रिय हो गया। अब एक बार फिर यह सक्रिय होने की कोशिश कर रहा है।