सरकार ने रबी की 6 फसलों का MSP बढ़ाया, नड्डा बोले- किसानों को भ्रमित करने वालों का चेहरा बेनकाब

tomer

सरकार ने रबी की 6 फसलों का MSP बढ़ाया है। गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) 50 रुपये प्रति कुंटल बढ़ाकर 1,975 रुपये प्रति कुंटल कर दिया है। कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने सोमवार को लोकसभा में यह जानकारी दी । तोमर ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडल समिति (सीसीईए) की बैठक में इस आशय का निर्णय लिया गया।

कृषि मंत्री ने कहा, ‘‘न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी), कृषि उत्पाद बाजार समिति (एपीएमसी) की व्यवस्था बनी रहेगी, सरकारी खरीद होती रहेगी और इसके साथ किसान जहां चाहें अपने उत्पाद बेच सकेंगे।” कृषि मंत्री की यह घोषणा ऐसे समय में सामने आई है जब रविवार को संसद में पारित कृषि संबंधी दो विधेयकों के खिलाफ पंजाब, हरियाणा और देश के कुछ अन्य स्थानों पर किसान समूह विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

छह रबी फसलों की एमएसपी में वृद्धि से भ्रमित करने वालों का चेहरा बेनकाब: नड्डा

सरकार ने रबी की 6 फसलों का MSP बढ़ाया-भाजपा नेताओं ने किया स्वागत

भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा ने आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडल समिति (सीसीईए) द्वारा गेहूं व चना सहित रबी की छह फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) में वृद्धि किए जाने के फैसले का स्वागत करते हुए विपक्षी दलों पर निशाना साधा कि इससे संसद में पारित कृषि सुधार विधेयकों को बारे में किसानों को भ्रमित करने वालों का चेहरा बेनकाब हो गया है।

अन्नदाताओं से माफी मांगे कांग्रेस- नड्डा

नड्डा ने एमएसपी संबंधित केंद्र सरकार के फैसले के तत्काल बाद सिलसिलेवार ट्वीट करते हुए कहा, ‘केंद्र सरकार ने न केवल एमएसपी में वृद्धि की है बल्कि किसानों के पारिश्रमिक मूल्य को सुनिश्चित करने के लिए एमएसपी पर खरीद भी बढ़ाई है। बिना तथ्यों के आधार पर किसानों को भ्रमित करने वाले लोगों का झूठा चेहरा आज बेनकाब हो गया है, उन्हें अब हमारे अन्नदाता भाइयों बहनों से माफी मांग लेनी चाहिए।”

यह भी पढ़ें: कृषि विधेयकों पर सड़क से लेकर संसद में खूब हुआ हंगामा, जानिये क्यों विरोध कर रहा है विपक्ष

रक्षा मंत्री ने भी किया स्वागत

किस फसल पर कितना बढ़ा एमएसपी

  • सरकार ने गेहूं की एमएसपी 50 रुपये प्रति क्विंटल बढ़ाकर 1,975 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया है।
  • चने की एमएसपी में 225 रुपये प्रति क्विंटल की वृद्धि की गई है और यह बढ़कर 5,100 रूपये प्रति क्विंटल हो गई है।
  • मसूर का न्यूनतम समर्थन मूल्य 300 रूपये प्रति क्विंटल बढ़ाया गया है और यह 5,100 रूपये प्रति क्विंटल हो गया है।
  • सरसों के एमएसपी में 225 रूपये प्रति क्विंटल की वृद्धि की गई है और यह बढ़कर 4,650 रूपये प्रति क्विंटल हो गई है।
  • जौ के न्यूनतम समर्थन मूल्य में 75 रूपये की वृद्धि के बाद यह 1,600 रूपये प्रति क्विंटल
  • कुसुम तिलहन के एमएसपी में 112 रूपये प्रति क्विंटल की वृद्धि के साथ यह 5,327 रूपये प्रति क्विंटल हो गई है।

रबी फसलों की एमएसपी में वृद्धि ‘ऐतिहासिक’: शाह

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने एमएसपी में वृद्धि किए जाने के फैसले को ‘ऐतिहासिक’ करार दिया। उन्होंने इसे किसानों की आय दोगुनी करने की दिशा में केंद्र सरकार का सार्थक प्रयास बताया।

सरकार ने रबी की 6 फसलों का MSP बढ़ाया, मंत्री बोले-किसानों की खुशहाली के विरोधी हैं विपक्षी दल

उन्होंने सिलसिलेवार ट्वीट कर संसद से पारित कृषि उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्द्धन और सुविधा) विधेयक-2020 और कृषक (सशक्तिकरण एवं संरक्षण) कीमत आश्वासन समझौता और कृषि सेवा पर करार विधेयक-2020 का विरोध करने के लिए विपक्षी दलों को आड़े हाथों लिया और कहा कि इन कृषि सुधार विधेयकों का विरोध करने वाले लोग असल में किसानों की खुशहाली के विरोधी हैं। ”

यह भी पढ़ें:कृषि बिल पर पीएम- ‘कृषि इतिहास का बड़ा दिन’, बड़े बदलाव और किसानों को सशक्त बनाने वाला

किसानों को भड़का कर राजनीति कर रहे हैं-शाह

कांग्रेस पर निशाना साधते हुए शाह ने कहा कि जो लोग किसानों को भड़का कर अपनी खोई राजनीतिक जमीन ढूंढ़ने का प्रयास कर रहे हैं, उन्होंने 2009-14 तक सत्ता में रहते हुए किसानों से मात्र 1.25 लाख मीट्रिक टन दाल खरीदी जबकि मोदी सरकार ने 2014-19 में 76.85 लाख मीट्रिक टन दाल खरीदी।

किसानों की खुशहाली नहीं चाहता विपक्ष

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार के कृषि सुधार विधेयकों का विरोध करने वाले लोग असल में किसानों की खुशहाली और उनकी उपज के सही मूल्य के विरोधी हैं। यह लोग नहीं चाहते कि देश का पेट भरने वाला अन्नदाता कभी उनके समान समृद्ध और सशक्त हो पाए। लेकिन मोदी सरकार किसानों को उनका अधिकार देकर रहेगी।”