गूगल का News showcase, 3 साल में भारत में 50 हजार पत्रकारों, छात्रों को देगा डिजिटल ट्रेनिंग

google
logo google

गूगल ने मंगलवार को भारत में 30 समाचार संगठनों (News organizations) के साथ अपने न्यूज शोकेस (गूगल का News showcase) की पेशकश की, जिसका मकसद गूगल के समाचार और खोज मंचों पर गुणवत्तापूर्ण सामग्री (Quality material) प्रदर्शित करने के लिए प्रकाशकों को प्रोत्साहित करना और समर्थन देना है। इसके साथ ही गूगल भारत में अगले तीन वर्षों के दौरान समाचार संगठनों और पत्रकारिता विद्यालयों के 50,000 पत्रकारों और पत्रकारिता के छात्रों को डिजिटल हुनर सिखाएगा।

गूगल का News showcase प्रकाशकों की मदद करेगा

गूगल के उपाध्यक्ष (Product management) ब्रैड बेंडर ने कहा, ‘हम अब प्रकाशकों की मदद के लिए न्यूज शोकेस पेश कर रहे हैं, ताकि लोगों को भरोसेमंद खबर मिल सके, विशेष रूप से इस महत्वपूर्ण समय में जब कोविड संकट जारी है। समाचार शोकेस दल प्रकाशकों की पसंद के अनुसार लेखों को बढ़ावा देता है और उन्हें खबर के साथ अतिरिक्त संदर्भ देने की अनुमति भी देता है, ताकि पाठकों में इस बात की बेहतर समझ बन सके कि उनके आसपास क्या हो रहा है।’

यह भी पढ़ें: अखबारों की खबरें यूज़ करने के लिये INS ने गूगल से पैसे मांगे, कहा-विदेशों की तर्ज पर करे भुगतान

30 राष्ट्रीय, क्षेत्रीय और स्थानीय समाचार संगठनों के साथ काम करेगा

google-chrome-sign
google-chrome-sign

उन्होंने कहा कि ये समाचार दल ब्रांडिंग सुनिश्चित करते हैं और यूज़र्स को प्रकाशकों की वेबसाइट पर ले जाते हैं। गूगल न्यूज शोकेस भारत में 30 राष्ट्रीय, क्षेत्रीय और स्थानीय समाचार संगठनों के साथ शुरू किया गया है और आने वाले दिनों में इस संख्या में बढ़ोतरी की जाएगी। गूगल की यह सेवा जर्मनी, ब्राजील, कनाडा, फ्रांस, जापान, यूके, ऑस्ट्रेलिया, इटली और अर्जेंटीना सहित एक दर्जन से अधिक देशों में उपलब्ध है।

यह भी पढ़ें: भारत में Valid होने के बाद भी गूगल ने कैशबैक हटाने को मजबूर किया: पेटीएम

गूगल का News showcase- 3 साल में डिजिटल करेगा लोगों को

भारत में गूगल के कंट्री हेड (Google’s Country Head) और उपाध्यक्ष संजय गुप्ता ने कहा कि कंपनी अगले तीन वर्षों में 50,000 से अधिक पत्रकारों और पत्रकारिता के छात्रों को प्रशिक्षित करेगी और इसके तहत खबरों के सत्यापन, फेक न्यूज से निपटने के उपायों और डिजिटल उपकरणों के इस्तेमाल पर खासतौर से ध्यान केंद्रित किया जाएगा।