आलू के दामों में गिरावट से किसान परेशान, 5 रु. प्रति किलो पर पहुंची कीमत, नहीं जुट रही लागत भी

potato

आलू के दामों में लगातार आ रही गिरावट से किसान परेशान है और उनके लिये लागत तक जुटाना मुश्किल हो रहा है। वैसे आम आदमी की रसोई में आलू की तमाम सब्ज़ियां फिर से बनने लगी हैं लेकिन किसानों को लागत भी नहीं मिल पा रही। पिछले डेढ साल से आलू की कीमतें कभी इतनी कम नहीं हुई थी लेकिन इस बार रबी की अच्छी फसल की वजह से उत्पादक और उपभोक्ता दोनों क्षेत्रों में आलू के दाम 50 प्रतिशत घटकर 5-6 रुपये प्रति किलोग्राम पर आ गए हैं। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक इस वजह से उपभोक्ताओं को रसोई की यह महत्वपूर्ण सब्जी काफी कम दाम पर मिल रही है। लेकिन आलू के किसानों के लिए उत्पादन की लागत निकालना भी मुश्किल हो रहा है।

आम आदमी की रसोई में राहत लेकिन किसान परेशान

खाद्य प्रसंस्करण मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, पंजाब, कर्नाटक, हिमाचल प्रदेश, मध्य प्रदेश, गुजरात और बिहार के 60 प्रमुख आलू उत्पादक क्षेत्रों में से 25 में इसके थोक दाम 20 मार्च को एक साल पहले की तुलना में 50 प्रतिशत नीचे आ चुके हैं। उत्तर प्रदेश के संभल और गुजरात के दीशा में आलू का दाम तीन साल के औसत दाम से नीचे यानी छह रुपये प्रति किलो चल रहा है।

आलू के दामों में बीते साल नहीं दिखी थी इतनी गिरावट

एक साल पहले इसी अवधि में उत्तर प्रदेश के कुछ जिलों में आलू (POTATO) के दाम 8-9 रुपये प्रति किलोग्राम के निचले स्तर पर थे। वहीं अन्य राज्यों में इसके दाम 10 रुपये प्रति किलोग्राम तथा थोक मंडियों में 23 रुपये प्रति किलोग्राम पर चल रहे थे। इसी तरह उपभोक्ता क्षेत्रों में 20 मार्च को आलू का थोक भाव एक साल पहले की तुलना में 50 प्रतिशत कम था। दिल्ली सहित 16 में से 12 उपभोक्ता क्षेत्रों में आलू का दाम 50 प्रतिशत नीचे चल रहा था। उदाहरण के लिए 20 मार्च को पंजाब के अमृतसर और दिल्ली में आलू का दाम पांच रुपये प्रति किलोग्राम के निचले स्तर पर था। इसका अधिकतम दाम चेन्नई में 17 रुपये प्रति किलोग्राम पर था।

यह भी पढ़े: सरकार ने रबी की 6 फसलों का MSP बढ़ाया, नड्डा बोले- किसानों को भ्रमित करने वालों का चेहरा बेनकाब

कोरोना काल में आलू के दामों में नहीं आई थी कमी

कुछ यही रुख खुदरा बाजारों में भी दिख रहा था। उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार 20 मार्च को आलू का मॉडल खुदरा दाम 10 रुपये प्रति किलोग्राम के निचले स्तर पर था। एक साल पहले यह 20 रुपये प्रति किलोग्राम था। उदाहरण के लिए 20 मार्च को दिल्ली में आलू का खुदरा भाव 15 रुपये प्रति किलोग्राम था, जो एक साल पहले 30 रुपये प्रति किलोग्राम था।