Money laundering मामले में ईडी ने ‘आप’ के बागी विधायक खैरा और परिवार के सदस्यों पर छापे मारे

AAP KHAIRA
file

Money laundering मामले में ED ने ‘आप’ के बागी विधायक खैरा और परिवार के सदस्यों पर छापे मारे। ईडी ने 2015 के फाजिल्का मादक पदार्थ और फर्जी पासपोर्ट गिरोह मामले से संबंधित मनी लॉन्ड्रिंग के एक मामले में पंजाब से आम आदमी पार्टी के बागी विधायक सुखपाल सिंह खैरा, दिल्ली के उनके परिवार के सदस्यों और जेल में बंद कुछ कैदियों के परिसरों पर मंगलवार को छापेमारी की। खैरा इस समय, पंजाब एकता पार्टी के अध्यक्ष हैं जो उन्होंने 2019 में बनाई थी।

अलग होकर खैरा ने बना ली थी पंजाब एकता पार्टी

चंडीगढ़ के सेक्टर पांच में स्थित उनके बंगले के बाहर संवाददाताओं से खैरा ने कहा कि उन्होंने कोई गलत काम नहीं किया है। एजेंसी ने खैरा के आवास, पंजाब में नौ और दिल्ली में दो स्थानों समेत दर्जनभर जगहों पर छापेमारी की। ईडी ने खैरा के रिश्तेदार इंद्रवीर सिंह जोहल के घर पर भी छापे मारे। एजेंसी ने आरोप लगाया कि मादक पदार्थ की तस्करी के मामले में दोषी गिरोह के लोगों और फर्जी पासपोर्ट बनाने वालों से खैरा (56) के संबंध हैं।

Money laundering मामले में कानून के तहत होगी कार्रवाई

खैरा 2017 में आम आदमी पार्टी से राज्य विधानसभा के लिए चुने गए थे। बाद में उन्होंने ‘आप’ छोड़ कर अपनी पार्टी बना ली थी। ईडी के आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि

Money laundering act के तहत खैरा और अन्य पर कार्रवाई की जा रही है। 

पीएमएलए कानून के तहत मामला दर्ज हुआ है

मामला पंजाब के फाजिल्का का है जहां 2015 में अंतरराष्ट्रीय मादक पदार्थ तस्करों से 1,800 ग्राम हेरोइन, सोने की 24 बिस्कुट, दो हथियार, 26 कारतूस और दो पाकिस्तानी सिम कार्ड जब्त किए गए थे। ईडी ने हाल ही में इस संबंध में पीएमएलए कानून के तहत मामला दर्ज किया था। पहले पंजाब पुलिस ने मामला दर्ज किया था। एजेंसी ने आरोप लगाया, भारत पाकिस्तान सीमा पर मादक पदार्थों की तस्करी की जा रही थी और गिरोह का एक सदस्य ब्रिटेन में है। सुखपाल सिंह खैरा सक्रिय रूप से अंतरराष्ट्रीय तस्करों के गिरोह की मदद कर रहा था और अपराध से होने वाला लाभ पा रहा था।

यह भी पढ़ें: लाल किला हिंसा मामले में पंजाबी अभिनेता दीप सिद्धू 14 दिन की न्यायिक हिरासत में

Money laundering मामले में जेल में बंद कछ लोगों के परिसरों पर भी छापेमारी

एजेंसी ने कहा कि फाजिल्का मादक पदार्थ मामले में दोषी ठहराए गए जेल में बंद कुछ कैदियों के परिसर की भी तलाशी ली गई और पूछताछ की गई।