बीजेपी विधायक के बिगड़े बोल-मायावती को कह दिया किन्नर से भी बदतर

राजनीति में शब्दों की मर्यादा अब सारी सीमाएं लांघ गई हैं। ऐसा हम नहीं कह रहे बल्कि एक महिला का दूसरी महिला को नीचा दिखाने के लिये दिया गया एक बयान सुनने के बाद हर कोई यह बात कहने को मजबूर हो जाता है। दरअसल यह बीजेपी की विधायक हैं जिन्होंने उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती के खिलाफ घोर अपमानजनक शब्दों का इस्तेमाल करते हुए उन्हें किन्नर से भी बदतर बता दिया। साधना सिंह मुगलसराय से भारतीय जनता पार्टी की विधायक हैं। साधना सिंह ने बसपा प्रमुख को लेकर चंदौली में यह विवादित बयान दिया है।

लखनऊ के गेस्ट हाउस कांड का ज़िक्र करते हुए साधना सिंह ने कहा, ‘हमको पूर्व मुख्यमंत्री न तो महिला लगती हैं और न ही पुरुष, इनको अपना सम्मान ही समझ में नहीं आता। एक चीरहरण हुआ था द्रौपदी का, तो उन्होंने दुशासन से बदला लेने की प्रतिज्ञा ली। वो एक स्वाभिमानी महिला थीं। ‘

मायावती के संदर्भ में साधना ने आगे कहा कि ‘ एक आज की महिला है, सबकुछ लुट गया और फिर भी कुर्सी पाने के लिए अपने सारे सम्मान को बेच दिया। ऐसी महिला मायावती जी का हम इस कार्यक्रम के माध्यम से तिरस्कार करते हैं। जो नारी जाति पर कलंक है।’

साधना सिंह यहां पर भी नहीं रुकीं। उनके शब्दों पर गौर करिये…
‘जिसे भारतीय जनता पार्टी के नेताओं ने लुटने से बचाया उस महिला ने सुख-सुविधा, अपने वर्चस्व को बचाने के लिए अपमान को पी लिया।’ ‘जिस दिन महिला का चीरहरण होता है, उसका ब्लाउज फट जाए, पेटीकोट फट जाए, साड़ी फट जाए, वो महिला सत्ता के लिए आगे आती है तो वो कलंकित है। उसे महिला कहने में भी संकोच लगता है। वो किन्नर से भी ज़्यादा बदतर है क्योंकि वो तो न नर है, न महिला है।’

बीजेपी विधायक के इस बयान के बाद सियासी हल्कों में कोहराम मच गया है। बीजेपी निशाने पर आ गई हैं। विवादित बयान देने वाली विधायक के खिलाफ कार्रवाई की मांग तो हो रही है, साथ में पार्टी के शीर्ष नेताओं को भी इसके चलते काफी ट्रोल होना पड़ रहा है। बीेसपी के वरिष्ठ नेता सतीश चन्द्र मिश्रा ने साधना सिंह को मानसिक तौर पर बीमार बताया…

अलका लांबा कहती हैं….

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here