Constitution Day of India 2020-संविधान पढ़ें, अपने अधिकार जानें

constitutions of india 3


Constitution Day of India-26 नवंबर को हर साल भारत में Constitution Day मनाया जाता है. इस दिन को राष्ट्रीय कानून दिवस (National Law Day) भी कहते हैं. 26 जनवरी 1950 को लागू हुआ भारत का संविधान. भारत का संविधान हस्तलिखित है। जिसमें 48 आर्टिकल हैं।


इसे तैयार करने में 2 साल 11 महीने और 17 दिन का वक्त लगा था। डॉ. बी आर अम्बेडकर थे भारतीय संविधान के जनक. संविधान का मसौदा तैयार करने वाले व्यक्ति थे अंबेडकर.

Constitution Day of India 26 नवंबर 1949 के दिन अपनाया गया संविधान

26 जनवरी 1950 को भारत का संविधान लागू हुआ था, लेकिन इससे पहले 26 नवंबर 1949 यानी आज ही के दिन इसे अपनाया गया था। डॉ. भीमराव अम्बेडकर को भारत के संविधान निर्माता कहा जाता है। हमारे देश का संविधान दुनिया का सबसे बड़ा संविधान है। सभी संविधानों को परखने के बाद इस संविधान का निर्माण कराया गया।

सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय ने 19 नवंबर 2015 को इस दिन को संविधान दिवस मनाया जाता है। संविधान दिवस मनाकर हम पहले कानून मंत्री बीआर अंबेडकर को श्रद्धांजलि देते हैं, जिन्होंने संविधान को बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका बनाई।

दुनिया का सबसे बड़ा संविधान

The-signing-of-the-Constitution-of-India

संविधान की ड्रॉफ्टिंग कमेटी के अध्यक्ष डॉ बी आर अंबेडकर थे। संविधान सभा के सदस्यों का पहला सेशन 9 दिसंबर 1947 को आयोजित हुआ। इसमें संविधान सभा के 207 सदस्य थे। हमारे देश का संविधान दुनिया का सबसे बड़ा संविधान है.संविधान सभा के सदस्यों का पहला सेशन 9 दिसंबर 1947 को आयोजित हुआ। इसमें संविधान सभा के 207 सदस्य थे। भारत का संविधान सबसे बड़ा लिखित संविधान है।

Constitution Day of India-संविधान में 448 अनुच्छेद, 12 अनुसूचियां और 25 भाग

संविधान लागू होने के समय इसमें 395 अनुच्छेद, 8 अनुसूचियां और 22 भाग थे,अब संविधान में 448 अनुच्छेद, 12 अनुसूचियां और 25 भाग हो गए हैं.संविधान- भारत सरकार के लिखित सिद्धांतों और उदाहरणों का एक समूह है.मूलभूत राजनीतिक सिद्धांतों, प्रक्रियाओं, अधिकारों, निर्देश सिद्धांतों, प्रतिबंधों और सरकार और नागरिकों के कर्तव्यों को पूरा करता है संविधान.

constituent-assembly

Constitution Day of India

भारत को एक संप्रभु, धर्मनिरपेक्ष, समाजवादी और लोकतांत्रिक गणराज्य घोषित करता है संविधान
नागरिकों की समानता, स्वतंत्रता और न्याय का आश्वासन देता है संविधान