तेज़ दिमाग का सीक्रेट है ब्रेन फूड , खूब खाएं फ्रूटस और सब्ज़ियां, जानिए क्या हैं इसके अन्य स्रोत

brain food

तेज़ दिमाग का सीक्रेट माना जाता है ब्रेन फूड ( ‍Brain Food) । आप चाहते हैं कि बच्चे हेल्दी खाना खाएं। ज़ाहिर सी बात है कि इस खाने की लिस्ट में होती है हरी सब्जियां, दही, फल, बादाम, दलिया, रोटी, दालें, चावल, घी आदि। लेकिन अमूूमन हर बच्चा खाने-पीने के नाम पर नाक-भौं सिकोड़ते हैं। बच्चों को खाने में पसंद होता है फास्ट फूड। पर आप जानते हैं कि फास्ट फूड पोषण के मामले में ज़ीरो होता है। बस इनमें होता है स्वाद और कैलोरीज़ का भंडार।

तेज़ दिमाग का सीक्रेट चॉकलेट, इसमें एंटी ऑक्सीडेंट और कोकोआ

हालांकि बच्चों को अधिक चॉकलेट खाने के लिए मना किया जाता है। लेकिन चॉकलेट में मौजूद कोकोआ दिमाग के लिए बहुत अच्छा होता है। कोकोआ के दो या तीन चम्मच में ही बुहत सारा एंटी ऑक्सीडेंट होता है। इसमें मौजूद मुख्य एंटी ऑक्सीडेंट फ्लेवेनोल के नाम से जाना जाता है, जो दिमाग में रक्तप्रवाह को तेज करता है। इसलिए डार्क चॉकलेट जरूर खाएं।

तेज़ दिमाग का सीक्रेट हरी-हरी थाली रोज़ खाएं

पालक, पत्तागोभी जैसी पत्तेदार सब्जियां दिमागी विकास के लिए आवश्यक हैं। इनसे भूलने की क्षमता कम होती है। इनमें विटामिन बी६, बी १२, फोलेट व आयरन होता है जो मेमोरी को तेज करने में मदद करता है। बच्चों में खासकर इनसे याद करने की क्षमता बढ़ती है। यदि आप शाकाहारी हैं तो फलों व सब्जियों से भी आप दिमाग को संपूर्ण आहार दे सकती हैं। जैसे ब्लूबेरी। इसे दिमाग के लिए सर्वश्रेष्ठ माना जाता है क्योंकि इससे मेमोरी बढ़ने में सहायता मिलती है। बेरी जैसे ब्लूबेरी, ब्लैकबेरी व रसबेरी आदि में एंटी ऑक्सीडेंट होते हैं जो कि दिमाग के विकास के लिए बेहतर माने जाते हैं। दिन में एक बार इन बेरियों को खाने से शरीर बूढ़ा नहीं होता।

दिमाग के लिए बेस्ट स्नैक्स हैं सूखे मेवे

यदि आप दिमाग के लिए कोई स्नैक्स लेना चाहते हैं तो सूखे मेवों व बीजों से बढ़कर कुछ नहीं हो सकता। उदाहरण के लिए सभी सूखे मेवे दिमाग के लिए पुष्टिकर होते हैं जैसे मूंगफली, काजू, बादाम, पिस्ता, किसमिस, खरबूज के बीज, तरबूज के बीज आदि। इनमें ओमेगा ३, ओमेगा-६, फोलेट,विटामिन ई व विटामिन बी-६ की प्रचुर मात्रा होती है। इससे आप को सोचने की ताकत मिलती है। अवसाद दूर करने में मदद मिलती है। इनसे दिमाग को पोषण भी मिलता है। एक स्टडी के अनुसार जो लोग विटामिन ई सपलीमेंट के बजाए सीधे भोजन या प्रकृति स्त्रोत से लेते है उनमे मानसिक बीमारी का खतरा 67%तक कम हो जाता है।

मछली खाने से तेज़ होता है डेटा बैंक

मछली शरीर के साथ-साथ दिमाग के लिए फायदेमंद है क्योंकि इसमें ओमेगा 3 होता है। सप्ताह में एक बार मछली खाने से अल्जाइमर का खतरा कम हो जाता है। दिमाग को पुरानी जानकारी याद रखने के साथ नई जानकारी ग्रहण करने में आसानी होती है। उसे सही मात्रा में ऑक्सीजन मिलती रहती है।

दिमाग की नसों के बिल्डिंग ब्लॉक को बनाने में सहायक

जैसे-जैसे हमारी उम्र बढ़ने लगती है, वैसे-वैसे एक प्रकिया जिसे ब्रेन अट्रोफी के नाम से जाना जाता है, के कारण हमारा दिमाग सिकुड़ने लगता है। इससे बचने के लिए अण्डों का सेवन फायदेमंद है। अण्डे में विटामिन बी 12 व लेसाथिन पाया जाता है। विटामिन बी 12 दिमाग को सिकुड़न से बचाता है। अण्डों में कोलीन नामक तत्व भी होता है, जो दिमाग की नसों के बिल्डिंग ब्लॉक को बनाने में सहायक होता है।

तेज़ दिमाग का सीक्रेट सूखा ओरीगेनो भी खाएं

इसमें एंटी ऑक्सीडेंट की बहुत अधिक मात्रा पाई जाती है। एक शोध के अनुसार इसमें सेब से 40 गुणा ज्यादा, आलू से 30 गुणा ज्यादा, संतरों से 12 गुणा और ब्लूबेरी से 4 गुणा ज्यादा एंटी ऑक्सीडेंट होता है जो दिमाग के लिए बेहद आवश्यक माना जाता है। इस तरह केवल आहार न लेकर ऐसा पौष्टिक आहार लें जो कि स्वस्थ तन के साथ स्वस्थ दिमाग का भी विकास करे, क्योंकि एक विकसित शरीर में अविकसित दिमाग किस काम का? पौष्टिक आहार विकसित दिमाग का आधार है।

पानी पर टिकी है ज़िंदगानी

हमारे जीवन मे जल का बहुत महत्व है। हमारे दिमाग मे तीन चौथाई पानी ही होता है। अर्थात डी-हाइड्रेसन का हमारी मानसिक स्थिति पर गलत प्रभाव पड़ता है। ऐसे में दिन में कम से कम 6-8 गिलास पानी पीना चाहिए।

इनपुट्स – Deepti Angrish डाइटीशियन शीला सेहरावत