किसान आंदोलन पर विदेशी हस्तियों की टिप्पणी पर बोली भाजपा- विदेशी ताकतों से प्रमाणपत्र की ज़रूरत नहीं

bijnor mahapanchayat
file

भाजपा ने भारत में चल रहे किसान आंदोलन का विदेश की कुछ हस्तियों द्वारा समर्थन किए जाने पर कहा है कि उसे विदेशी ताकतों से प्रमाणपत्र की ज़रूरत नहीं है। बीजेपी ने इसे देश को अस्थिर करने का प्रयास बताया और कहा कि भारतीय लोकतंत्र को विदेशी ताकतों से प्रमाणपत्र की जरूरत नहीं है। केंद्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की विभिन्न सीमाओं पर चल रहे किसानों के आंदोलन का जलवायु कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग सहित कुछ अन्य अंतरराष्ट्रीय हस्तियों ने समर्थन किया है।

भारत के आंतरिक मामलों में विदेशियों का हस्तक्षेप करना गलत-मालवीय

पार्टी मुख्यालय में संवाददाताओं को संबोधित करते हुए भाजपा प्रवक्ता गौरव भाटिया ने कहा प्रदर्शन करना लोकतांत्रिक है लेकिन भारत के आंतरिक मामलों में विदेशियों का हस्तक्षेप करना गलत है। उन्होंने कहा, ‘भारत के लोकतंत्र को किसी विदेशी ताकत के प्रमाणपत्र की जरूरत नहीं है। यदि वे देश को कमजोर करने की कोशिश करेंगे तो हम बर्दाश्त नहीं करेंगे। इन विदेशी ताकतों के खिलाफ देश एकजुट है और भारत में विदेशी ताकतों को परास्त करने की ताकत है।’ भाटिया ने विपक्षी दलों खासकर कांग्रेस से आत्मचिंतन करने को कहा। उन्होंने कहा कि इन दलों को समझना चाहिए कि उनका अस्तित्व तभी रहेगा, जब भारत मजबूत रहेगा।

विदेशी ताकतों से प्रमाणपत्र

jind
pic credit-twitter

भाजपा आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने कहा कि यह चुनौती नहीं है बल्कि भारत के खिलाफ एक एजेंडा है और थनबर्ग उसका हिस्सा हैं। उन्होंने कहा कि भारत की संसद द्वारा पारित कानूनों पर हस्तक्षेप करने का उनका कोई अधिकार नहीं है। यह भारत को अस्थिर करने की योजना का हिस्सा है। थनबर्ग द्वारा सोशल मीडिया पर अपलोड किए गए दस्तावेज (टूल किट) की चर्चा करते हुए भाटिया ने उसे अराजकता की स्कूल किट बताया और कहा कि इससे एक बड़ा ये खुलासा हुआ कि लोकतंत्र के खिलाफ बहुत बड़ा षड़यंत्र किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें: किसान नेता राकेश टिकैत ने जींद में भरी हुंकार, मंच टूटने से सोशल मीडिया पर हुए ट्रोल

विदेशी ताकतों से प्रमाणपत्र

उन्होंने कहा, वो ताकतें, जो भारत की प्रगति से परेशान हैं, जो नहीं चाहते कि भारतीय लोकतंत्र की तारीफ विश्व में आगे भी हो और जो चाहते हैं कि हमारे देश की आर्थिक और सामाजिक मजबूती और सांस्कृतिक धरोहर को नष्ट किया जाए, उनके द्वारा एक अंतराष्ट्रीय साजिश रची जा रही है।” उन्होंने कहा कि 133 करोड़ भारतीयों की ताकत कुछ लोगों के आंखों की किरकिरी बन गई है।