बिजनौर महापंचायत: भाकियू का ऐलान, समाधान तक दिल्ली में डटे रहेंगे किसान

bijnor mahapanchayat
file

बिजनौर महापंचायत में भाकियू नेताओं ने ऐलान किया है कि वह नेताओं को मंच नहीं देंगे। उत्तर प्रदेश के बिजनौर में सोमवार को भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) की किसान सम्मान महापंचायत में किसान नेता गौरव टिकैत ने कहा कि समस्या का समाधान निकलने तक किसानों की दिल्ली में मोर्चाबंदी जारी रहेगी। वहीं, भाकियू नेताओं द्वारा लगातार राजनीतिक नेताओं को मंच नहीं देने की घोषणाओ के बावजूद इस महापंचायत में रालोद नेता जयंत चौधरी ने मंच साझा किया।

किसानों के स्वाभिमान को खत्म करने का षडयंत्र न करे-गौरव टिकैत

भाकियू की बिजनौर के आईटीआई मैदान पर हुई महापंचायत में गौरव टिकैत ने किसानों की भारी भीड़ को संबोधित करते हुए कहा कि भारत सरकार तीन कृषि कानूनों को मान प्रतिष्ठा का प्रश्न न बनाए, न ही किसानों के स्वाभिमान को खत्म करने का षडयंत्र करे। उन्होंने कहा कि जब तक कोई हल नहीं निकलता, तब तक आंदोलन जारी रहेगा तथा दिल्ली में किसानों के जितने भी मोर्चे हैं वो लगे रहेंगे।

बिजनौर महापंचायत में जुटे किसान-माफी मांगें पीएम- युद्धवीर सिंह

ghazipur

किसान नेता युद्दवीर सिंह ने आरोप लगाते हुए कहा कि भारत सरकार ने जो षडयंत्र किया है उसके लिए प्रधानमंत्री गुरुद्वारा शीशगंज जाकर माफी मांगे। उन्होंने कहा कि लड़ाई देश के हर किसान की है,इसलिए हर घर के सभी सदस्यो को गाजीपुर (गाजियाबाद जिले के प्रदर्शन स्थल) चलना पड़ेगा।

रालोद नेता जयंत चौधरी भी महापंचायत में पहुंचे

राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) नेता जयंत चौधरी भी महापंचायत में पहुंचे थे। उन्होंने किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि इस आंदोलन से पूरे उत्तर भारत में क्रांति सी दौड़ गई है, प्रधानमंत्री को जनमत के आगे झुककर एक कदम पीछे लेना चाहिए। उन्होंने सोमवार को हुई महापंचायत को शक्ति प्रदर्शन बताते हुए अपने पिता अजीत सिंह की भी इसमे भूमिका का जिक्र किया।