सेना की POK में Balakot के बाद बड़ी कार्रवाई, 5 पाक सैनिक ढेर

encounter
encounter

सेना की POK में Balakot के बाद बड़ी कार्रवाई हुई है। सेना ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में आतंकी ठिकानों पर भारी गोलीबारी की। इसमें 4 से 5 पाकिस्तानी सैनिक मारे गए। सेना ने यह कार्रवाई तब की, जब पाकिस्तान ने आतंकी घुसपैठ को अंजाम देने के लिए शनिवार रात अचानक भारतीय पोस्टों पर गोलाबारी शुरू कर दी। भारतीय सेना ने आर्टिलरी फायरिंग (गोलाबारी) कर पीओके के जूरा, ऐथमुकाम और कुंदलशाही में स्थित 4 आतंकी लॉन्च पैड को तबाह कर दिया।

सेना की POK में कार्रवाई से थर्राया पाक

न्यूज एजेंसी पीटीआई ने कुछ रिपोर्ट्स के हवाले से कहा कि इस कार्रवाई में 4 से 5 आतंकवादी भी ढेर हुए हैं। इसी साल 26 फरवरी को पीओके के बालाकोट में भारतीय वायुसेना की एयरस्ट्राइक के बाद यह सेना की बड़ी कार्रवाई है।

न्यूज एजेंसी को सेना के सूत्र ने बताया कि पाकिस्तान की फायरिंग में भारतीय सेना के दो जवान शहीद हुए और एक नागरिक की जान गई। उसने कहा कि सेना की इस कार्रवाई की तुलना किसी भी सूरत में सितंबर 2016 में की गई सर्जिकल स्ट्राइक से नहीं की जानी चाहिए।

पाकिस्तान सेना ने दावा किया कि उनकी गोलीबारी में 9 भारतीय सैनिकों की जान गई, लेकिन भारतीय सेना ने यह दावा खारिज कर दिया। पाकिस्तानी फौज के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने कहा कि भारतीय सेना की गोलाबारी में एक जवान मारा गया और 3 नागरिकों की जान गई।

सेना की POK में पुलवामा हमले के बाद हुई थी एयर स्ट्राइक

shopiankashmirencounter
shopiankashmirencounter

14 फरवरी को पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर आतंकी हमला किया गया था। इसमें सीआरपीएफ के 46 जवान शहीद हुए थे। इस हमले का जवाब देने के लिए भारतीय वायुसेना ने 26 फरवरी को पीओके के बालाकोट में एयर स्ट्राइक कर आतंकी लॉन्चपैड तबाह किए थे। इसमें करीब 350 आतंकियों के मारे जाने का दावा किया गया था।

एएनआई ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने जम्मू कश्मीर के टंगधार सेक्टर में पाकिस्तानी सेना की तरफ से संघर्षविराम उल्लंघन के बाद की गई कार्रवाई के बाद बनी स्थिति को लेकर आर्मी चीफ बिपिन रावत से बात की है। रक्षामंत्री व्यक्तिगत तौर पर स्थिति का जायजा ले रहे हैं। इसके साथ ही, आर्मी चीफ से रक्षामंत्री ने कहा कि वे उन्हें अपडेट्स देते रहें।

सेना के सूत्रों ने बताया कि भारतीय सेना में आतंकियों की घुसपैठ में भारतीय सेना की तरफ से मदद की कोशिश के दौरान आतंकी शिविरों पर सेना की तरफ से धावा बोला गया। सेना ने आतंकी कैंपों को निशाना बनाने के लिए आर्टिलरी गन का इस्तेमाल किया।

सूत्रों के मुताबिक, जम्मू कश्मीर में नियंत्रण रेख से लगते टंगधार सेक्टर के विपरित नीलम घाटी में चार आतंकी शिविर बने हुए थे। आर्टिलरी गन हमले में चार से पांच पाकिस्तानी सैनिकों के मारे जाने के अलावा कई और के घायल होने की रिपोर्ट्स है।