Bharat Bandh : सोनीपत में किसानों ने राष्ट्रीय राजमार्ग बाधित कर जताया विरोध

farmer
file

Bharat Bandh-तीन कृषि कानूनों वापस लेने एवं फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) दिलाने की गारंटी हेतु कानून बनाने सहित विभिन्न मांगों को लेकर शुक्रवार को संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा बुलाए गए ‘ भारत बंद’ के तहत किसानों ने यहां कई जगहों पर सड़कों को बाधित किया जिससे कई स्थानों पर जाम की स्थिति रही। हालांकि, शहरी इलाके में इसका कम असर देखने को मिला राई गांव में किसानों ने कहा कि शाम छह बजे तक राजमार्ग को बाधित रख जाएगा। राई के अलावा प्रदर्शनकारियों ने गोहाना में गांव मदीना मोड़, गांव नूरन खेड़ा, गांव मुंडलाना, भैंसवान खुर्द के अलावा सात जगहों पर शांति पूर्ण तरीके से जाम लगाया गया।

Bharat Bandh का पंजाब, हरियाणा में असर

जन संघर्ष मंच हरियाणा, भारतीय किसान यूनियन तथा समतामूलक महिला संगठन ने भी प्रदर्शन किया। मंच के प्रांतीय सलहाकार डॉ. सीडी शर्मा व संगठन की प्रदेश संयोजिका डॉ. सुनीता त्यागी ने कहा कि देश के किसानों, मजदूरों, छात्रों, जवानों तथा दुनिया भर के इन्साफ पसन्द लोगों व जनप्रतिनिधियों के व्यापक समर्थन के बावजूद केंद्र सरकार ‘काले’ कृषि कानूनों को लागू करने पर आमादा है।

यह भी पढ़ें: किसान आंदोलन- पंजाब, हरियाणा, राजस्थान में NHAI को 814 करोड़ के राजस्व का नुकसान

हम 24 घंटे वार्ता के लिये तैयार-किसान नेता

भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश उपाध्यक्ष सत्यवान नरवाल, किसान नेता सूरजभान चहल, अनिल मलिक, बीरमति चहल एवं मन्दीप सिंह ने सरकार से तीनों कृषि वापस लेने की एक बार फिर मांग की। उन्होंने कहा कि सरकार तीनों कृषि कानूनों के साथ-साथ बिजली (संशोधन) विधेयक- 2020 रद्द करे पराली अध्यादेश के किसान विरोधी हिस्से को हटाए, डीजल 25 रुपये प्रति लीटर, पेट्रोल 35 रुपये प्रति लीटर तथा रसोई गैस 250 रुपये प्रति सिलेंडर की दर से मुहैया कराए।

Bharat Bandh बंद रही कई मंडियां भी

आढ़ती एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. प्रदीप कुमार के नेतृत्व में गोहाना की अनाज मंडी भी बंद रही। वहीं जाम का समर्थन करने के लिए किसान कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष संदीप अहलावत के साथ राजेंद्र कुंडू पहुंचे। प्रदर्शनकारियों का समर्थन करने कांग्रेस नेता जीतेंद्र हुड्डा, राकेश गंगाना के अलावा इनेलो के नेता जोगेंद्र मलिक भी पहुंचे।